आज की नारी का सफर चुनौतीभरा जरूर है, पर आज उसमें चुनौतियों से लड़ने का साहस आ गया है। अपने आत्मविश्वास के बल पर आज वह दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बना रही है। आज की नारी आर्थिक व मानसिक रूप से आत्मनिर्भर है।परिवार व अपने करियर दोनों में तालमेल बैठाती नारी का कौशल वाकई काबिले तारीफ है। किसी को शिकायत का मौका नहीं देने वाली नारी आज अपनी काबिलीयत व साहस के बूते पर कामयाबी के मुकाम तक पहुँची है। चुनौतियों का हँसकर स्वागत करने वाली महिलाएँ आज हर क्षेत्र में अपना लोहा मनवा रही हैं। कल तक भावनात्मक रूप से कमजोर महिलाएँ आज आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन रही हैं तथा अपनी जिंदगी  के महत्वपूर्ण फैसले स्वयं कर रही हैं. आज बात  कर रहे है ऐशी ही एक महिला की जो ३० साल की उम्र में  दुनिया की यंगेस्ट महिला पायलट  कमांडर ख़िताब अपने नाम किया  एनी  दिव्या ने जो बाइंग 777 विमान उड़ाती हैं .इन्होने समाज में एक मिशाल पेश   किया है.

 

eni divya1
Photo via Facebook Page

एनी दिव्या की पायलट बनने की शुरुवात 

दिव्या का जन्म पठानकोट में हुआ है इनके पिता  आर्मी में थे और वे वहीं पोस्टेड थे, पर रिटायर्मेंट  बाद ये लोग विजयवाड़ा   में शिफ्ट हो गए . यही पर इनका स्कूलिंग हुई .   दिव्या बचपन से पायलट बनना चाह रही थी .उनके पैरेंट्स कभी उन पर ये दवाब नहीं बनाते थे. उनके माता-पिता काफी सपोर्ट किया . उनकी मां उनका हमेशा हौसला बढ़ाया करती थीं. मगर उनके रिश्तेदार और दोस्त हमेशा उनके पायलट बनने के निर्णय के खिलाफ रहते थे.

12वीं के बाद दिव्या का   उत्तर प्रदेश के फ्लाइंग स्कूल इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी में उनका एडिमिशन हो गया.जब वो 17 साल की थी तब उन्होंने कड़ी मेहनत करके खुद के लिए एक छात्रवृत्ति कमाई और 19 साल की आयु में अपना प्रशिक्षण पूरा किया.ट्रेनिंग खत्म होने के तुरंत बाद ही उन्हें एयर इंडिया में नौकरी मिल गई. इसी दौरान वो पहली बार विदेश गईं. उन्हें ट्रेनिंग के लिए स्पेन भेजा गया. वापस लौटने के बाद उन्हें बोईंग 737 उड़ाने का मौका मिला. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा. जब वो 21 साल की हुईं उन्हें ट्रेनिंग के लिए लंदन भेजा गया और यही वह समय था, जब उन्होंने बाईंग 777 उड़ाना शुरू किया

अपने परिवार के भाग्य को बदलने के लिए अपने वेतन का इस्तेमाल किया। अपने भाई और बहन दोनों को विदेशों में पढ़ाई के लिए भेजा और अपने माता-पिता के लिए एक घर भी खरीदा। दिव्या का यही संदेश है कि सभी महिलाओं को अपने सपनों का पीछा करना चाहिए और उसे पाने के लिए हर संभव प्रयास करते रहना चाहिए.

30 साल की एनी दिव्या ने वो कीर्तिमान अपने नाम कर लिया जिसका सपना वो बचपन से देखा करती थीं। दिव्या दुनिया की यंगेस्ट महिला कमांडर हैं, जो बोइंग 777 विमान उड़ाती हैं