कुछ लोग अपने विश्वास को और सशक्त बनाने के लिए कॉर्पोरेट नौकरियों को हमेशा के लिए अलविदा कह देते हैं और अपने सपने को पूरे करने के लिए आगे बढ़ जाते हैं। कहते हैं सफलता सोचने से नहीं मेहनत से मिलती है . इस बात को फिर साबित किया एक युवा इन्जीनियर नितिन कामत ने , जो किसी समय पढाई के दौरान कॉल सेंटर में काम करते थे, लेकिन आज वे स्टॉक ट्रेडिंग मार्केट का जाना पहचाना नाम है जो अपनी खुद की कम्पनी के सीईओ बनकर 900 लोगों को रोजगार दे रहे हैं.

जिस उम्र में लोगों को करियर की सुध नहीं होती उस उम्र में नितिन स्टॉक ट्रेडिंग मार्केट में अपनी पकड़ मजबूत करना शुरू कर चुके थे। आज नितिन ने अपनी मेहनत और काबलियत के दम पर देश के सफल कारोबारी की लिस्‍ट में अपना नाम दर्ज कराया है। नितिन ने अपने पिता के फण्ड का प्रबंध करते हुए पेशेवर ट्रेडर के साथ समय व्यतीत कर स्टॉक ट्रेडिंग की बारीकियों को सिखा। परन्तु पर्याप्त पैसे न होने के वजह से वे तीन सालों तक एक कॉल सेंटर में नौकरी कर धन राशि जुटाने में लग गए। उन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला ले कर की, लेकिन उसके बाद वे खुद को एक सफल इंटरप्रेनियोरशिप के रूप में देखना चाहते थे। उस वक्त वे इंजीनियरिंग की पढाई के साथ-साथ ट्रेडिंग भी कर रहे थे और रातों को कॉल सेंटर में नौकरी भी किया करते थे।

जब रिलांयस मनी लॉन्च हुआ तब नितिन एक सफल सब-ब्रोकर बन चुके थे, लेकिन उन्हें इस नौकरी में कुछ कमी नज़र आ रही थी, और इस सिस्टम से वे खुद को संतुष्ट नहीं कर पा रहे थे। उस कमी को पूरा करते हुए उन्होंने अपने स्टाइल में अपनी कंपनी ज़ेरोधा की शुरुआत की। शुरूआती दिनों में उन्हें काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ा लेकिन उन्हें अपने काम करने की कला पर पूरा भरोसा था। अपनी इमानदारी और कड़ी मेहनत से नितिन अपनी कंपनी ज़ेरोधा को एक सफल मुकाम तक पहुँचाने में कामयाब होते चले गये।

नितिन का मानना है कि एक सफल बिजनेसमैन बनने के लिए आपको हमेशा अच्छा होमवर्क करना होगा और इसके साथ आपके अन्दर स्मार्ट इन्वेस्टमेंट करने की काबिलियत भी होनी चाहिए। अपने हौसले को बढाते हुए सदैव धैर्य बनाये रखने की आवश्यकता होती है। नितिन अपनी सफलता का मूल-मंत्र अपने भीतर की धैर्य शक्ति को ही बताते हैं।

ज़ेरोधा के आज 2,50,000 यूजर्स हैं और इस में लगभग 900 कर्मचारी कार्यरत हैं, जो कंपनी के साथ-साथ ग्राहकों को भी भरपूर मुनाफा करवा रहे हैं।

Story Source : Yourstory