दहेज प्रथा समाज के लिए एक कोढ़ की तरह है‘ तथा एक घिनौना सामाजिक कलंक है| आज वर पक्ष के लोग टी. वी.फ्रिजकार इत्यादि की मांग कर रहे है यदि लड़की का बाप यह सब देने में असमर्थ हो तो लड़की की शादी रूक जाती है या शादी भी हो जाती है तो लडकी को तंग किया जाता है किसी-किसी केस में तो लड़की को अपनी जिंदगी भी गंवानी पड़ती है या आत्म हत्या कर लेती है | चुकी दहेज लेने में लोग अपनी शान समझते हैं |

No Dowry System -Gaya -BiharStory is best online digital media platform for storytelling - Bihar | India

इन बातों से विपरीत बिहार के गया (Gaya, Bihar) जिले का एक एसा गाँव जहाँ दहेज लेना तथा देना दोनों अपराध है इस गाँव ने दहेजलोभियों के मुह पर जोरदार तमाचा जड़ा है, और जगा रहे है आशा की एक किरण | जी हाँ हम बात कर रहे है बिहार के गया (Gaya, Bihar) जिले के गौराडावर गाँव की जहाँ दहेज लेने तथा देने पर सामाजिक दंड की वयवस्था है | सबसे खास बात ये है की इस गाँव में न तो शिक्षा का स्तर बहुत ऊँचा है और न हीं बहुत विकसित है पर यहाँ के लोग की सोंच बहुत ऊँची है | देखा जाये तो इस तरह के सोंच रखने वालों से हीं असली समाज का निर्माण होता है | इस गाँव का मुख्य पेशा पत्तल निर्माण का है और यहाँ के बने पत्तल राज्य के कोने-कोने तक जाता है हर कोई इस गाँव को जानता है पर अपने सामाजिक-आर्थिक परिवेश में खुश यहाँ के ग्रामीणों ने कभी किसी बेटी वाले से दहेज की मांग नहीं की |

देश की आजादी मिलने के पहले से ही चली आ रही है ये परम्परा

आजादी से पहले भी दहेज जैसी कु-प्रथा समाज में हावी थी इसलिए इस गाँव के पूर्वजों ने तय किया की हम लोग अपने समाज में न तो दहेज लेंगे औए न ही देंगे | इस गाँव के ही एक 70 वर्षीय बुजुर्ग ने बताया की यह परंपरा कई पीढ़ियों से चली आ रही है और दहेज देने अथवा लेने पर सामाजिक दंड का प्रावधान है पर आज तक इसकी नौबत नहीं आई है |

दहेज प्रथा के बाद बाल-विवाह पर भी लगा है अंकुश

इस गाँव में दहेज प्रथा तो ख़त्म हो ही गया है अब बाल विवाह पर भी अंकुश लग गया है पहले इस गाँव में भी लोग शिक्षा के आभाव में बेटे-बेटियों की शादी कम उम्र में कर देते थे पर अब वो बात नहीं है अब अभिभावक अपने बच्चों की शादी 18 और 21 वर्ष के बाद ही करते है

तेरी हीं बगिया में खिली, तितली बन आसमां में उड़ी हूँ |

मेरी उड़ान को तो शर्मिंदा न कर, ए बबूल मुझे दहेज दे कर विदा न कर |

Manoj Kr Gupta
Latest posts by Manoj Kr Gupta (see all)