दोस्तों जिंदगी बहुत छोटी है अगर इसे जिन्दादिली से न जिया जाय तो इस का क्या फायदा | आज हम बात करेंगे एक व्यक्ति की जिनकी उम्र तो है 71 वर्ष पर बुढ़ापा उनके पास भी नहीं फटकता, जिस उम्र में लोगों को दर्जनों तरह की बीमारियाँ जकड़ लेती है, उस उम्र में ये लगाते है 10 मीटर की ट्रिपल जम्प | जिनको देख कर आज के युवाओं को पसीने छूटने लगते हैं | जी हाँ हम बात कर रहे हैं छत्तीसगढ़ के बी.एल रॉय की

National & International Athletics - B.L.Roy -BiharStory is best online digital media platform for storytelling - Bihar | India

71 वर्षीय बी.एल रॉय जिंदगी जीते हैं, न की गुजारते हैं

बी.एल रॉय (B.L.Roy) छत्तीसगढ़ के कोरबा (Korba, Chhatisgarh) के मूल निवासी हैं आज उम्र तो उनकी 71 वर्ष की है पर आज भी उसी जोश और जूनून से एक खिलाडी की भूमिका निभा रहे है, जिस तरह से 63 वर्ष पहले करते थे | (B.L.Roy) मानना है की अगर आप के पास जोश और जज्बा हो तो आप किसी भी उम्र में कुछ भी हासिल कर सकते हैं, जीस उम्र के पड़ाव पर लोग चारपाई पर लेटे रहते है, उस उम्र में बी.एल रॉय एक घंटा रोज दौड़ लगाते है, इनकी सेहत का राज कोई जड़ी-बूटी नहीं बल्कि जीवन के प्रति उम्मीदों से भरा नजरिया मात्र है |

जिंदगी को जिंदादिली से जीने का नजरिया उन्हें चुस्त-दुरुस्त रहने को प्रेरित करता है | उम्र के इस पड़ाव पर भी न तो आँखों की रौशनी कम हुई है और न ही बी.पी, शुगर जैसी बुढ़ापे की बीमारीयों ने इनको जकड़ा | यही कारण है की अब भी ये हर दौड़ में आगे रहते हैं

अभी तक तीन  दर्जन से भी अधिक मेडल जीत चुके हैं छत्तीस गढ़ के बी.एल रॉय

बी.एल रॉय (B.L.Roy) के ट्रैक रिकॉर्ड की बात करे तो राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतिस्पर्धाओं में उन्होंने अब तक 40 मेडल अपने नाम की है| उन्होंने आस्ट्रेलिया में 1996 में आयोजित मास्टर्स पैसेफिक गेम्स सहित तीन अंतर्राष्ट्रीय खेलों में भी भारत के लिए रजत एवं कांस्य पदक हासिल किये |

फरवरी 2017 इलाहाबाद में आयोजित नेशनल एथलेटिक्स में उन्होंने ट्रिपल जम्प में एक गोल्ड और लौंग जम्प में सिल्वर मेडल जीता इसके बाद जगदलपुर में आयोजित ऑल इंडिया चैम्पियनशिप में लांग जंप और ट्रिपल जंप में एक-एक गोल्ड मेडल और जेवलिन थ्रो में सिल्वर मेडल अपने नाम किया |

वे हर वर्ष किसी-न किसी राष्ट्रीय प्रतियोगिता का हिस्सा बनते हैं तथा पदकों की झड़ी लगा देते हैं | वर्ष 2009 में छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा  उन्हें खेल विभूति सम्मान से सम्मानित किया गया था  | इनको देख कर आज के युवाओं को मिलती है प्रेरणा | 

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar