कई दशकों तक बिहार के युवा के बारे में ये धारणा बनी रही की बिहार के युवा अगर सफलता हासिल कर सकते हैं  तो सिर्फ  IAS की परीक्षा में या फिर मेडिकल और इंजीनियरिंग में |पर आज कई युवाओं ने अपनी बहुमुखी प्रतिभा  से साबित कर दिया है की कला के विभिन्न क्षेत्रों में भी बिहार के सफलता हासिल कर सकते हैं | दोस्तों आज आज हम आपको परिचय कराने जा रहे हैं पटना में जन्मे और यहीं पले-बढ़े एक ऐसे प्रतिभावान युवक से जिन्होंने अपना करियर शुरू तो किया था स्टैंड-अप कॉमेडियन के रूप में किया था पर अपने बहुमुखी प्रतिभा  के कारण  आज ये लाखों दिलों में राज करते हैं वो हैं आरजे विजेता चंदेल |

सुबह-सुबह चाय की चुस्कियों के साथ Big FM का प्रोग्राम बिग चाय तो जरूर सुना होगा | इस चाय की मिठास को और भी मीठा बना  देते हैं आरजे विजेता चंदेल | आरजे विजेता चंदेल जितनी प्यारी बातें करते हैं, उतना ही ख़ास इनका अंदाज़ भी है जिसे कई बार आप लोगों ने टीवी पर भी देखा होगा | अब आप सोच रहे होंगे की एक RJ को टीवी पर देखना समझ नहीं आया | तो हम आपको बता दें हमारे ये आरजे आल राउंडर हैं | एक एंकर, डायरेक्टर, राइटर और कॉमेडियन भी हैँ |

विजयादशमी के दिन जन्म होने के कारण नाम पड़ा विजेता

पटना के रहने वाले विजेता चंदेल के परिवार में माता-पिता, भैया-भाभी और उनका एक छोटा सा भतीजा है। उनका जन्म विजयादशमी के दिन हुआ था इसीलिए घरवालों ने उनका नाम विजेता रख दिया और अपने परिवार के इसी प्यार को चरितार्थ करने की कोशिश में दिन-रात लगे हुए हैं | आज सफल होने के बाद भी बिहार की मिटटी को नहीं भूलें | बिहार के प्रति अपनी राय के बारे में कहते हैं, मैं अपनी ज़िन्दगी में जो कुछ भी पाया और सीखा है, उन सब का श्रेय मेरे परिवार और बिहार की मिटटी को जाता है मैं देश- दुनिया की चाहे किसी भी कोने में रहूं, बिहार मेरे दिल में बसता है | मेरी तमन्ना है की बिहार के युवा खूब तरक्की करें चाहे वो कोई भी क्षेत्र हो |

विजेता चंदेल को पहला ब्रेक बतौर स्टैंडअप कॉमेडियन के रूप में मिला

विजेता चंदेल को पहला ब्रेक मिला महुआ टीवी के शो “हंसी का अखाड़ा” जहाँ उन्होंने बतौर स्टैंडअप कॉमेडियन के रूप में लोगों के बीच पहचान बनाई | पर विजेता चंदेल यहीं नहीं रुकने वाले थे, इसके बाद 20 साल की कम उम्र में ही स्टार न्यूज़ के एक रियलिटी शो “स्टार एंकर हंट” में उनका चयन हुआ | इस रियलिटी शो के जज चेतन भगत, टिस्का चोपड़ा और दीपक चौरसिआ जैसे महारथी थे , उसमें देशभर में चुने गए 10 लोगों में एक विजेता भी थे |

उसके बाद विजेता चंदेल को बिग मैजिक के शो “छपरा एक्सप्रेस” के लिए एंकरिंग करने के साथ ही कई सारे कॉर्पोरेट शोज करने का मौका मिला | अक्षय कुमार, कैलाश खेर, सुशांत सिंह राजपूत, रवि किशन, नवाज़जुदीन सिद्द्की जैसे कई बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के साथ काम करने को तो मिला ही, साथ ही उनसे बहुत कुछ सीखा भी |

हमारे आलराउंडर विजेता चंदेल भला इतने से में कहा संतुष्ट होने वाले थे | उनका अगला पड़ाव बना बाबा राम देव का भजन रियल्टी शो जहाँ उन्होंने बतौर रियलिटी डायरेक्टर काम किया |

विजेता चंदेल अच्छी मिमिक्री भी कर लेते हैं, मिमिक्री का शौक तो उन्हें बचपन से ही था लेकिन उन्होंने इस क्षेत्र में आगे कुछ करने के बारे में कभी सोचा नहीं था | स्टैंडअप कॉमेडियन के ऑडिशन में भी विजेता चंदेल यूँही चले गए थे और अपने टैलेंट के बलबूते सेलेक्ट भी हो गए | लेकिन फिर भी विजेता शो में काम करने को लेकर सीरियस नहीं थे | चैनल और शो से कई कॉल आने पर भी जब वो जाने को तैयार नहीं हुए तो उनके पिता ने इस शो को करने के लिए मनाया | और ये निर्णय उनके जीवन का टर्निंग पॉइंट साबित हुआ |

विजेता चंदेल ने जिस फील्ड में भी काम किया, अपने नाम के अनुरूप वो विजेता साबित हुए| सभी क्रिएटिव कामों में एक्सपर्ट विजेता पढाई में भी हमेशा अव्वल रहे | बचपन से ही पढ़ने के शौक़ीन विजेता गीता, ओशो, रोबिन एस. शर्मा, पाउलो कहेलो को पढ़ते रहते है। विजेता कहते हैं की ये सिर्फ कहने और सुनने की बात नहीं की किताबें हमारी सबसे अच्छी दोस्त होती हैं, एक बार इनके साथ दोस्ती कर के तो देखिये। ज्ञान के साथ ही ढेर सारी खुशियां अपनेआप मिल जाएँगी | विजेता चंदेल को जितना गहरा नाता किताबों से है, उतने ही बड़े फिल्म-प्रेमी भी हैं | विजेता चंदेल मानना है की फिल्में आपका मनोरंजन करने के साथ बहुत सारी बातें भी सीखा देती है |

इतनी कम उम्र में प्रोफेशन और ज़िन्दगी के कई रंग और अनुभव समेटे ये अपने अनुभव से युवाओं की परेशानियों को हल करने में उनकी मदद करते हैं | अपनी स्कूल और कॉलेज की पढ़ाई पटना से करने वाले विजेता को देश के विभिन्न शहरों में रहने का मौका मिला, लेकिन विजेता चंदेल का  दिल अपने शहर के लिए हमेशा धड़कता रहा | इस साल की शुरुआत में जब उन्हें अपने परिवार के साथ अपने ही शहर में रहने का मौका मिलता दिखा तो भला उसे वो कैसे हाथ से जाने देते | और Big FM के RJ बनकर वापस आ गए | दिल से एकदम खांटी बिहारी विजेता चंदेल को बिहारी खाना सबसे ज्यादा भाता है | पेड़ा, जलेबी, लिट्टी-चोखा और बिहारी स्टाइल में बना मटन इनका पसंदीदा खाना है |

 

 

 

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar