कूड़ा और गंदगी के दुसरे के पर्याय हैं सरकार के द्वारा ठोस कदम उठाने के बावजूद हर जगह  कूड़ा-कचरा का अम्बार लगा रहता है एसा इसलिए की घर से निकलने वाला कूड़े का समुचित निस्तारण की व्यवस्था नहीं है जिस कारण यह स्थिति उत्पन्न हो गई है कि हर भीड़-भार वाले जगहों पर कूड़े-कचरे का ढेर कई महीनों से लगा रहता है | इस दैनिक समस्या को दूर करने का बीड़ा उठाया है बक्सर बिहार के रहने वाले दो युवाओं विवेक कुमार और प्रशांत गौतम ने |

महज 18 वर्ष  की उम्र में हीं स्टार्टअप इंडिया में सेलेक्शन करवा लिया

बक्सर के रहने वाले विवेक कुमार और प्रशांत गौतम ने महज 18 साल की उम्र में स्टार्टअप इंडिया में सेलेक्शन करवा लिया | दोनों के स्टार्टअप को अभी स्टार्टअप इंडिया से रिकग्निशन मिला है| इन दोनों ने रिसाइकलिंग बाजार बनाया है, जो हर आम इंसान के फायदे का है | विवेक और प्रशांत के  स्टार्टअप इंडिया में सेलेक्ट होने के बाद इसे देशभर में एक अलग पहचान मिल गई है | इसके तहत बिजनेस मॉड्यूल पर टैक्स बेनीफिट भी मिलेंगे। साथ ही बिना किसी कोलैटरल के 10 करोड़ रुपए तक का फंड स्टार्टअप इंडिया के तहत चुने गए स्टार्टअप को ही मिलता है |

विवेकऔर प्रशांत ने अपने स्टार्टअप रिसाइकलिंग बाजार के रिकग्निशन के लिए स्टार्टअप बिहार स्कीम के लिए भी आवेदन किया था, लेकिन यहां इसे नहीं सेलेक्ट किया गया। लेकिन विवेक और प्रशांत निराश नहीं हुए | दोनों ने बताया कि यह स्टार्टअप के तहत इसी माह से काम शुरू हो जाएगा | सबसे पहले हम इसे अपने होमटाउन बक्सर से शुरू कर रहे हैं | शीघ्र ही इसे राजधानी पटना में भी शुरू करने की योजना है |

हर घर से हर दिन कूड़ा और कबाड़ निकलता है। कुछ तो नगर निगम के सिस्टम से कूड़े के ढेर तक पहुंच जाता है, तो  कुछ घर के आसपास खाली जमीन पर फेंक दिया जाता है। दोनों ही हालात में किसी को कोई फायदा नहीं मिलता। लेकिन रिसाइकलिंग बाजार इस कूड़े को हर घर से खरीदेगा। विवेक ने बताया कि हम ईको फ्रेंडली गाड़ियों से कूड़ा-कबाड़ कलेक्ट करेंगे। उसका कैश पेमेंट किया जाएगा। इसके बाद कूड़ा-कबाड़ की ईको फ्रेंडली रिसाइकलिंग

ये सच है की जिस कूड़े- कचड़े हमलोग बच बचा कर निकलना चाहते हैं उसी कूड़े- कचड़े से विवेक कुमार और प्रशांत गौतम ने व्यवसाय का रुप दे दिया और समाज को एक मिशाल दे दिया के किसी भी चीज को कभी छोटा न समझें |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar