कहा जाता हैं की चाहे कोई गरीब हो या अमीर अगर हौसले बुलंद और इरादे नेक हो तो हर मुश्किल आसान हो जाती है | फिर चाहे वह दीवार समाज की किसी बंदिश से बनी हो या आर्थिक तंगी से कोई फर्क नहीं पड़ता है  और वह समाज में एक मिसाल बनकर सामने आता है | कुछ इस तरह की हीं बात है बिहार के जमुई जिले के खैरा प्रखंड के नक्सलग्रस्त क्षेत्र चौकीटांड़ की 12 वर्षीया रूपा कुमारी की जिसने आर्थिक तंगी के बावजूद तेलंगाना में आयोजित 15वीं सीनियर नेशनल रग्बी प्रतियोगिता में अंडर-14 टच रग्बी में राज्य का प्रतिनिधित्व कर सफलता का परचम लहराई है |

 

पिता ऑटो चलाकर करते हैं परिवार का गुजारा

रूपा के पिता राजेंद्र भगत ऑटो चला कर परिवार का गुजारा करते हैं | रूपा अपने पांच भाई-बहनों में 16 वर्षीया सुलेखा, 14 वर्षीया बबीता के बाद वह तीसरे नंबर पर है तथा 10 वर्षीय एक भाई अरविंद और आठ वर्षीया राखी से बड़ी है  | रूपा को उसके खेल को लेकर पिता का हमेशा सकारात्मक सहयोग मिलता रहा है | जब भी रूपा कहीं खेलने जाती थी या रूपा को  किसी सामान की जरूरत होती है तो पिता राजेंद्र भगत अपनी जरूरतों को कम कर रूपा के जरूरतों को पूरा करते थे |

राष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व करना चाहती है

पिता राजेंद्र भगत का कहना है कि मैं अपनी बेटी को बहुत बड़ा खिलाड़ी बनाना चाहता हूं, लेकिन धन के अभाव में उसकी इच्छा पूरी नही कर पा रहा हूं | मेरे पास इतना पैसा नही है, जो उसको एक खिलाड़ी के हिसाब से खाना भी खिला सकूं  | कहने को तो खेल मंत्रालय के द्वारा खिलाड़ियों को मदद करने की बात कही जाती है, पर आज भी जमीनी स्तर पर कई ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनकी प्रतिभा आर्थिक सहायता के अभाव में धरातल में चली जाती है |रूपा बताती है कि उसे किसी प्रकार की सरकारी सहायता आज तक नहीं मिली है| न तो उसे सरकारी स्तर पर खेल प्रसाधन ही मुहैया कराया जाता है | इसके बावजूद वह नेशनल लेवल पर देश का प्रतिनिधित्व करना चाहती है. इधर रूपा की इस सफलता पर समाज सहित पूरे चौकीटांड़ गांव वासियों में काफी उत्साह  देखा जा रहा है |

आमतौर पर समाज में आज भी हम बाल विवाह और दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों के खिलाफ लड़ रहे हैं तथा बेटियों को उनका हक दिलाने की आजमाइश में लगे हैं | ऐसे में रूपा ने एक कदम आगे निकल कर यह दिखा दिया है की  समाज में किसी भी तरह से बेटियां बेटों से कहीं कम नहीं हैं | उसने कहा कि मेरे पिता ने हमेशा मेरे सपनों को साकार करने में मेरी मदद की है |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar