बिहार प्रतिभाओं की जन्म भूमि है, बिहार की धरती ने एक से बढ़कर एक प्रतिभाओं को जन्म दिया है | जो  अपनी मेहनत व लगन के बूते देश व विश्व स्तर पर अपने देश व राज्य का नाम रोशन कर रहे हैं जिनकी कामयाबी ने एक नया अध्याय लिखा है |आज हम बात करेंगे बिहार के भोजपुर जिले के बड़हरा प्रखंड के बखोरापुर निवासी रामलाल सिंह का पोता सत्यम कुमार की जिन्होंने आज से पांच साल पहले भारत में खूब नाम कमाया था | जब सत्यम कुमार , जिन्होंने 12 वर्ष की उम्र में आईआईटी की परीक्षा पास कर पूरी दुनिया को चौंका दिया था फिलहाल वो फ्रांस में अपनी पढ़ाई कर रहे हैं |

सत्यम कुमार ने महज बारह वर्ष की उम्र में ही आइआइटी  जैसी मुश्किल प्रतियोगिता में बुलंदी का झड़ा गाड़ा था

भोजपुर जिले के बड़हरा के रहने वाले सत्यम कुमार अब 17 वर्ष के हैं | आज से 5 साल पहले सत्यम ने वो कारनामा किया था जो सबके बस की बात नहीं थी । बारह वर्ष की नन्ही सी उम्र में आइआइटी के ऊंचे किले को फतह करने वाला सत्यम फ्रांस में इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए मिसाल बन चुके हैं | सत्यम अपनी मेधा के कायल फ्रांसीसी छात्रों को भारतीय शिक्षा पद्धति का गुण सीखा रहे हैं |

फिलहाल सत्यम आइआइटी कानपुर में इलेक्ट्रिकल ब्रांच का छात्र है | इसी बीच फ्रांस में समर रिसर्च इन्टर्न के अवसर पर ‘ब्रेन कम्प्यूटर इन्टरफेसेज’ विषय पर रिसर्च के लिए सत्यम का चयन किया गया था | उसका चयन फ्रांस के चार्पैक स्कॉलरशिप और भारत सरकार में ‘ए सर्विस ऑफ दी एम्बेसी’ के संयुक्त तत्वावधान में ‘टू प्रमोट हाईयर एजुकेशन इन फ्रांस’ के लिए गया था |

आज से पांच साल पहले महज 12 साल की उम्र में आईआईटी की कठिन परीक्षा पास करके पूरे देश में तहलका मचा देने वाला सत्यम फिलहाल फ्रांस में हैं | फ्रांस में समर रिसर्च इन्टर्न के लिए गया सत्यम फ्रांस के बच्चों के बीच चर्चा का विषय बन गए थे | हम उनकी और भी कामयाबी की प्रार्थना करते हैं। ताकि बिहार का नाम वो दुनिया भर में यूं ही रौशन करते रहें |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar