दोस्तों एक अच्छा समाज सेवक वे लोग होते हैं, जो समाज में परिवर्तन की जरूरत महसूस करते हैं और इसके लिए अपना पूरा जीवन समाज के नाम कर देते हैं | कुछ लोगो में समाज सेवक के गुण स्वाभाविक रूप से पाए जाते हैं, जबकि बाकी लोग किसी दुखद या सुखद घटना या अनुभव के फलस्वरुप सामाजिक कार्य की तरफ मुड़ जाते हैं | कुछ इसी तरह की कहानी है बिहार के बक्सर जिले की रहने वाली शेफाली भारद्वाज की जिनका सपना था पायलट बनने का पर आर्थिक तंगी के कारण जब उनका ये सपना पूरा नहीं हुआ तो वे बेटियों की शिक्षा के लिए यूनिसेफ से जुड़ गईं | अब शेफाली भारद्वाज बिहार की हजारों महिलाओं और लड़कियों को आत्मनिर्भर बना उन्हें उन्नति की राह पर अग्रसर कर रही है |

Social Work - Shefali Bhardwaaj -Buxar -Bihar Story is best online digital media platform for storytelling - Bihar | India

अब तक एक हजार से भी अधिक महिलाओं को आत्मनिर्भर बना चुकी है

बिहार (Bihar) के बक्सर (Buxar) की रहने वाली शेफाली भारद्वाज (Shefali Bhardwaaj) ने अभी तक एक हजार से भी अधिक महिलाओं एवं लड़कियों को आत्मनिर्भर बना चुकी है, जो अलग-अलग व्यवसाय से जुड़कर अपने पारिवारिक दायित्व का सफलता पूर्वक निर्वहन कर रही हैं | शेफाली भारद्वाज (Shefali Bhardwaaj) का मानना है कि “स्वस्थ नारी ही स्वस्थ समाज का निर्माण कर सकती है |”

आर्थिक तंगी के कारण सपना पूरा नहीं हो सका

शेफाली भारद्वाज (Shefali Bhardwaaj) बचपन से पायलट बनने का सपना देखती थी | परंतु आर्थिक कारणों से यह सपना पूरा न हो सका | लेकिन शेफाली भारद्वाज ने हार न मानते हुए समाज सेवा (Social Work) में लगन से काम किया। शेफाली ने इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की और बच्चियों को शिक्षित करने में जुट गई |बक्सर (Buxar) के झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाली बच्चियों को समाज के मुख्य धारा से जोड़ने का काम करने लगी | महज 800 रुपए की सैलरी से नौकरी शुरु करने वाली शेफाली आज किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं।

बिना दहेज शादी कर शुरू किया था नया ट्रेंड

शेफाली भारद्वाज (Shefali Bhardwaaj) ने वर्ष 2009 में दहेज मुक्त शादी की नींव रख परिवार में एक अलग ट्रेंड की शुरुआत की थी | शादी के बाद भी शेफाली भारद्वाज (Shefali Bhardwaaj)| बक्सर (Buxar) के सामाजिक कार्यों  (Social Work) में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती रही है | शेफाली भारद्वाज को हाल ही में बिहार (Bihar) की 101 सशक्त महिलाओं में शामिल किया गया है जिन्होंने अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया है  |