दोस्तों अगर दिल में कुछ कर दिखाने की तमन्ना हो तो घर की आर्थिक तंगी भी प्रतिभाओं को उभरने से नहीं रोक सकती | इस कथन को सच कर दिखाया है पटना के खगौल नगर की बेटी राधिका कुमारी ने आज देश में | स्थानीय आदर्श विद्यालय में दसवीं कक्षा की छात्रा राधिका अपने कड़ी मेहनत के बल पर अब तक 400 मीटर, 600 मीटर और 1000 मीटर की दौड़ में कई मेडल जीत चुकी है, और आगे खेल जगत के सर्वोच्च अवार्ड अर्जुन अवार्ड को अपने नाम करना चाहती है |

Runner (रनर) -Radhika Kumari - Bihar Story is best online digital media platform for storytelling - Bihar | India

अभ्यास करना नहीं भूलती है राधिका कुमारी

चाहे तपती धूप हो या कड़ाके की ठंड या तेज बारिश प्रत्येक दिन करीब छह घंटे दौड़ का अभ्यास करना नहीं भूलती है राधिका कुमारी (Runner, Radhika Kumari)| अर्जुन अवार्ड पाने की तमन्ना लिए खगौल नगर की बेटी राधिका कुमारी हौसलों की उड़ान भर लड़कियों के लिए प्रेरणा बन रही है |

जमालुद्दीनचक निवासी अखिलेश्वर प्रसाद की बेटी व स्थानीय आदर्श विद्यालय में दसवीं कक्षा की छात्रा राधिका कड़ी मेहनत कर 400 मीटर, 600 मीटर और 1000 मीटर की दौड़ में कई मेडल जीत चुकी है राधिका कुमारी (Runner, Radhika Kumari)| राधिका ने जिला दौड़ प्रतियोगिता में स्वर्ण और राजयस्तरीय प्रतियोगिता में रजत पदक जीत खगौल नगर एवं विद्यालय को गौरवांवित कर चुकी है | राधिका के प्रशिक्षक उत्तम कुमार बताते है कि तीन वर्ष पहले विद्यालय में राधिका पर नजर पड़ी जो हमेशा दौड़ प्रतियोगिता में पहले स्थान प्राप्त पा सबको अचंभित कर रही थी | मेरी समझ में आ गया कि इस बच्ची को तराशा जाए तो एक अच्छा और होनहार खिलाड़ी साबित हो सकती है |

आर्थिक तंगी के कारण राधिका कुमारी को सही डाइट नहीं मिल पा रही थी

राधिका कुमारी (Runner, Radhika Kumari) को आर्थिक तंगी के कारण को सही डाइट नहीं मिल पा रही थी जो किसी भी खिलाडी के लिए काफी अहम् होता है| मगर उसके पिता अखिलेश्वर प्रसाद ने बेटी के हौसले को कंधा से कंधा मिलाकर साथ दिया | वहीं राधिका के बारे में विद्यालय की प्राचार्या अंजू कुमारी प्रसाद ने बताया कि राधिका की कड़ी मेहनत और जूनून को देखकर विद्यालय प्रशासन ने तीन घंटी उसके प्रैक्टिस के लिए दिया | ताकि उसके सपने साकार हो सके | और देश को अच्छा खिलाड़ी मिल सके |

राधिका से अपने सपनों के बारे में पूछने पर बताती है कि मेरी बस एक ही तमन्ना है, कि देश को हर प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक दिला सकूं और सर्वोच्य अवार्ड अर्जुन अवार्ड को अपने नाम करूँ |

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar