दोस्तों बलात्कार हमारे समाज का सबसे घृणित अपराध है, जिसकी कानून के द्वारा जितनी सजा मिले वो कम है |भारत में होने वाले बलात्कार के ताजा आंकड़ो पर नजर डालें तो एन.सी.आर.बी के अनुसार हर दिन 79 महिलाओं का बलात्कार होता है जो काफी शर्मनाक है | दोस्तों आज हम बात करेंगे उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद के किसान की बेटी सीनू कुमारी की जिसने रेप से बचने के लिए बनाई हैं रेप प्रूफ पैंटी | यह इलेक्ट्रॉनिक टेक्नीक से लैस है और  इसमें स्मार्टलॉक लगा है | यह लॉक सिर्फ पासवर्ड से हीं खुल सकता है।

पैटीं को पहनने वाली महिला कहां है इसकी जानकारी भी मिल सकती है | इसके लिए इसमें जीपीआरएस सिस्टम लगा है। इससे लोकेशन की सही जानकारी मिल सकती है | जीपीआरएस सिस्टम के अलावा घटनास्थल की बातचीत रिकॉर्ड करने के लिए रिकॉर्डर भी लगा हुआ है | सिनु कुमारी मात्र 19 वर्ष की है और बीएससी थर्ड ईयर की स्टूडेंट हैं, लेकिन, सोच और कारनामें बहुत ऊंचे हैं |

एक घटना से आइडिया आया

सीनू कुमारी के शहर फर्रुखाबाद में एक रेप की घटना घटित हुई थी जिसमे एक सात वर्षीय बच्ची की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई थी | इस घटना ने साधारण सी दिखने वाली सीनू कुमारी को झकझोर कर रख दिया | वह उदास रहने लगी | दिन और रात उसके मन में यही घुमड़ता रहा कि आखिर वह क्या करे कि फिर कोई बच्ची या महिला इस तरह की दरिंदगी का शिकार न हो | एक माह की कड़ी मेहनत के बाद उसने एक ऐसी पेंटी बनायी जो रेप प्रूफ है | इसे जल्द ही पेटेंट मिलने वाला है, इसके बाद यह बाजारों में बिक्री के लिए उपलब्ध होगी |

1090 पर जाएगी कॉल

सीनू कुमारी के बनाये पैंटी को पहनने के बाद रेप से बचा जा सकता है | इस पैंटी में खास तरह के उपकरण लगे हैं | इसमें एक स्मार्टलॉक लगा है, जो पासवर्ड के बिना नहीं खुल सकता | यह पैंटी ब्लेडप्रूफ कपड़े की बनी है | इसको चाकू या किसी भी धारदार हथियार से काटा नहीं जा सकता है | पैंटी को जलाया भी नहीं जा सकता है | इसमें एक बटन लगा है, जिसे दबाने पर 100 या 1090 नंबर पर ऑटोमैटिकली कॉल चला जाएगा और जीपीआरएस सिस्टम की मदद से पुलिस घटनास्थल पर पहुंच जाएगी | पैंटी में रिकॉर्डर भी लगा है, जिसमें घटनास्थल की सारी बातें रिकॉर्ड हो जाएंगी |

लागत मात्र पांच हजार

सीनू कुमारी को इस रेप प्रूफ पैंटी को तैयार करने में सिर्फ 5,000 रुपये तक का खर्च आया है | सीनू कहती हैं कि इस मॉडल में और सुधार के बाद यह और सस्ती हो सकती है | पेंटेंट के बाद जब कंपनियां थोक में बनाकर इसे बाजार में उतारेंगी तब इसकी कीमत आम पैंटी की तुलना में थोड़ी सी ही महंगी होगी |
जल्द हीं मिल जायेगा पेटेंट
रेप प्रूफ पैंटी का पेटेंट कराने के लिए सीनू ने इलाहाबाद स्थित नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन (एनआईएफ) के पास भेजा है जल्द ही इसको पेटेंट राइट मिल जाएगा | कई कंपनियों से बात चल रही है, इसके बाद इसका व्यावसायिक उत्पादन भी शुरू कर दिया जाएगा |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar