Share Story :

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ शब्द सुनने में तो बहुत अच्छा लगता है, पर दोस्तों इस धरती पर बिरले हीं होते हैं जो इन बेटियों के दर्द को अपना समझता हो वो भी बिना किसी स्वार्थ के | आज हम जिनकी चर्चा करने जा रहे हैं वो इस तरह की हीं शख्सियत की मालकिन हैं, बिहार के कटिहार जिले की रहने वाली भूमिका विहार संस्था की निदेशक शिल्पी सिंह |

Human Traffiking - Shilpi Singh - Katihar, Bihar - Bihar Story is best online digital media platform for storytelling - Bihar|India

गाली-गलौज के बाद भी हौसला कम नहीं हुआ शिल्पी सिंह का

शिल्पी सिंह (Shilpi Singh) अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद से ही की बेटियों को बचाने के लिए एक तरह से आंदोलन के तौर पर शुरू किया इस आंदोलन के तहत उन्होंने सीमांचल के साथ कई जिलों में कम उम्र की लड़कियों की शादी को रोकना शुरू किया | अब तक शिल्पी ने लगभग 100 लड़कियों को नाबालिग अवस्था में शादी होने से बचाया और पांच सौ से भी अधिक लडकियों को बिहार (Bihar) में हो रहे जिस्मफरोशी (Human Traffiking) के धंधे से मुक्त करवाया है और साथ हीं शिल्पी ने मुक्त लडकियों के लिए उन्हें फिर से नया जीवन जीने का रास्ता भी दिया | हालांकि इस काम को लेकर कई बार लड़कियों के परिजन उनसे दुर्व्यवहार करने तथा गाली गलौज भी करने लगे थे लेकिन शिल्पी ने बढ़ते हौसले को कभी भी कम नहीं किया और लगातार बिहार (Bihar) की लड़कियों की समस्या को लेकर लड़ाई लड़ती रहीं|

पांच सौ से भी अधिक लडकियों को जिस्मफरोशी के दलदल से निकाल चुकी है शिल्पी सिंह

लडकियों के लिए जिस्मफरोशी (Human Traffiking) के दलदल से निकलना एसा है मानो उनको नया जीवन मिला हो | बिहार (Bihar) के सीमांचल इलाके में हर साल बाढ़ आती है और बाढ़ के वजह से गरीब मजबूर लड़कियों को दलाल बहला फुसलाकर अपने साथ ले जाते हैं तथा जबरदस्ती उन्हें जिस्मफरोशी (Human Traffiking) के दलदल में धकेल देते हैं ऐसे ही अब तक 500 लड़कियों को शिल्पी सिंह ने जिस्मफरोशी (Human Traffiking) के धंधे से मुक्त करवाया है और साथ हीं शिल्पी ने मुक्त लडकियों के लिए उन्हें फिर से नया जीवन जीने का रास्ता भी दिया | अब उनमें से कुछ ऐसी भी लड़कियां हैं जो शिल्पी सिंह (Shilpi Singh) का इस मुहीम में साथ दे रही है और पढ़ लिखकर अपने पैरों पर खड़ी है | नवगछिया में कैद कुछ लड़कियों को छुड़ाने के दौरान वहां के जिस्मफरोशी के दलाल के द्वारा मुझे जान से मारने की धमकी भी दी गई थी लेकिन हमारे मजबूत हौसलों के सामने वे लोग शिल्पी सिंह का बाल भी बांका नहीं कर पाए |

सुपर स्टार आमिर खान भी बने मुरीद

शिल्पी सिंह (Shilpi Singh) के इन सराहनिए कार्यो से प्रभावित होकर अभिनेता आमिर खान ने उन्हें फोन करते हुए 4 मिनट तक बातचीत की और कहा कि आप जो काम कर रही है वह हमें बहुत अच्छा लगा | दूसरे की जिंदगी में परिवर्तन लाना वाकई में बहुत बड़ा काम है | शिल्पी के मुताबिक आमिर खान ने उनसे उनकी काम की जानकारी मांगी और बिहार (Bihar) आते ही सबसे पहले उनसे मिलने का वादा किया | शिल्पी ने कहा कि “आमिर खान ने जैसे ही फोन पर कहा कि, ‘हैलो, आई एम आमिर खान’, मुझे लगा जैसे मेरा सपना पूरा हो गया हो | मुझे लगा कि मैं जिस मकसद के लिए कोशिश कर रही हूं वह मकसद आज सफल हो गया |”

शिल्पी सिंह (Shilpi Singh) बिहार (Bihar) की लड़कियों को आगे बढ़ाने की काम करती है, और अब तक सैकड़ों लड़कियों को जिल्लत की जिंदगी से बाहर निकाल चुकी हैं और उनके काम के चर्चे बिहार के साथ साथ और भी राज्यों में है जहां मजबूर लड़कियों को शिल्पी ने अपना हाथ बढ़ाते हुए मजबूरी से बाहर निकाला था।

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar
Share Story :