प्राचीन काल से हीं भारत प्रतिभा संपन्न बाहुल्य लोगों का देश रहा है | इतिहास से लेकर वर्तमान तक यहाँ लोगों ने अपनी कौशल और विद्वता को इतना निखार लिया है कि हर कोई उन्हें देखने के बाद उनका मुरीद हो जाता है | कुछ इस तरह ही प्रतिभा संपन्न है बस्ती के चंद्र प्रकाश चौधरी जो चित्रकारी कला में मानो स्वयं कोई देव शिल्पी हो जिसे चाहा उसे अपने कला के माध्यम से सजीव चित्र का आकर दे दिया | चित्रकार चन्द्र प्रकाश चौधरी एक किसान परिवार से है इनका निवास स्थान विकास खण्ड गौर के ग्राम बैदोलिया अजायब पो.बेलघाट,बस्ती उत्तर प्रदेश है |

साधारण किसान के लड़के हैं

चंद्र प्रकाश चौधरी के पिता श्री राम दुलारे चौधरी एक मध्यम वर्गीय किसान है जो खेती कर अपना जीवन यापन करते है | बेहद सरल स्वाभाव व मृदुभाषी चित्रकार चन्द्र प्रकाश चौधरी ने गांव की प्राथमिक पाठशाला बैदोलिया अजायब, गौर, बस्ती से अपनी आरंभिक शिक्षा ली, और सन 2005 मे आदर्श जनता उ०मा० हलुआ,बस्ती से हाईस्कूल व 2007 में हंसराज लाल इण्टर कालेज गनेशपुर, बस्ती से इण्टरमीडियट की परीक्षाये प्रथम श्रेणियों मे उत्तीर्ण किया |
सन् 2007 मे उच्च शिक्षा के लिए पूर्वांचल के सुप्रसिध्द महाविद्यालय फैजाबाद जिले के साकेत पी.जी.कालेज मे दाखिला लिया और वही से इन्होने सन 2010 मे चित्रकला,शिक्षाशात्र,समाजशात्र विषय के साथ बी.ए. व सन 2012 मे चित्रकला विषय के साथ एम.ए.की परीक्षायें प्रथम श्रेणियो मे उत्तीर्ण किया |

पूर्वांचल यूपी के एक प्रसिद्ध डिग्री कॉलेज अपनी परास्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करने के बाद वह सन 2012 में कला पेशेवर अध्ययन के लिए देश के विविध संस्थानो जैसे राज्य ललित कला अकादमी लखनऊ, प्रचीन कला केन्द्र चंडीगढ, आदि से जुड़ कर चित्रकला का अध्ययन व प्रशिक्षण प्राप्त किया । फिर इन्होने सन 2011 मे अपने गृह जनपद बस्ती मे प्रथम बार एकल चित्रकला प्रदर्शनी का आयोजन कर अपनी कला प्रतिभा का लोहा मनवाया, जिसकी जनमानस मे मुक्त कंठ से प्रशंसा की गयी | इन्होने राज्य ललित कला अकादमी लखनऊ, के साथ साथ अलीगढ मुस्लिम विश्व विद्यालय, फैजाबाद, सुलतानपुर, अयोध्या , मनवर महोत्सव हर्रैया,बस्ती, अम्बेडकर नगर, कप्तानगंज आदि प्रदेश के विविध स्थानो व जनपदो मे अपने चित्र कृतियो का प्रदर्शन कर अपनी कला प्रतिभा का परिचय दिया | सन 2012 राज्यस्तरीय चित्रकला प्रदर्शनी देव इन्द्रावती पी.जी.कालेज कटहरी, अम्बेडकर नगर मे इन्हे “फस्ट एण्ड लास्ट” नामक चित्रकृती के लिए सुप्रसिध्द अन्तर राष्ट्रीय चित्रकार किशन सोनीजी द्वारा सम्मानित किया |

अनेकों पुरस्कार अपने नाम कर चुके हैं

चन्द्र प्रकाश चौधरी ने विविध माध्यमो से चित्रो की रचना की है जिनमे आयल, जल, क्रेयान, पेन्सिल स्केज प्रमुख है | साल 2013 मे इन्हे रामकथा विषय पर उत्कृष्ट चित्राकंन के तत्कालीन सी.ओ. बीकापुर तारकेश्वर पाण्डेय जी द्वारा सम्मानित किया गया व 2014 मे क्षेत्रीय कला मेला सुलतान पुर मे सुप्रसिध्द लोक विधा की चित्रकत्री डा. कुमुद सिंह जी सम्मानित किया गया | और इसी वर्ष इन्हे राष्ट्रीय कला मेला मे “दा फ्यूचर नामक कला कृति लिए विश्व की प्रथम महिला कला डी.लिट. प्रो.चित्रलेखा सिंह जी द्वारा सम्मानित किया गया | कला के साथ साथ बहुमुखी प्रतिभा के धनी चन्द्र प्रकाश नें चित्रकला, वाद विवाद, आशु भाषण, क्राफ्ट कला, रंगोली आदि प्रतियोगिताओ मे प्रथम पुरस्कारो से सम्मानित होकर अपने जिले व क्षेत्र का नाम ऱोशन कर चुके है |

चित्रकारी के साथ-साथ एक अच्छे लेखक भी हैं

कलाकारी के साथ ही साथ चन्द्र प्रकाश चौधरी ने लेखन कार्यो मे भी अपनी दक्षता का परिचय दिया है बेहतरीन लेख व प्रभाव पूर्ण संवादो के दम पर इनकी रचनाये व लेख समाचार पत्रो मे अपना विशिष्ठ स्थान बना चुकी है |
महज 24 वर्ष मे उम्र मे ही इन्होने अपने कला गुरू महेश योगी के जीवन लीला पर आधारित एक ग्रंथ की रचना की है l जिसकी देश अनेको कलाविदो व लेखको ने मुक्त कंठ से सराहना की है |

वर्तमान समय मे जनपद बस्ती के दर्जनो से अधिक स्कूलो व संस्थाओ से जुड़कर नि:शुल्क नव निहालो मे कला की अलख जगा रहे है |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar