हमारे हिंदुस्तान की मिटटी शुरू से हीं प्रतिभावान और जाबांज को पैदा करती आई है, जिन्होंने समय-समय पर अपने साहस और वीरता से सारी दुनिया को मंत्रमुग्ध किया है | उन नामों में अब एक और नाम जुड़ गया है हरियाणा (Haryana) की 16 वर्षीय पर्वतारोही शिवांगी पाठक (Mountaineering, Shivangi Pathak) का, जिन्होंने इस वर्ष दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) (29,000 फुट) को फतह कर इतिहास रच दिया | शिवांगी पाठक (Shivangi Pathak) ऐसा करने वालीं भारत की सबसे युवा महिला (India’s First Young Mountaineering Women) बन गई हैं | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी शिवांगी (Shivangi Pathak) की इस सफलता पर ट्वीट कर उन्‍हें बधाई दी है |

Shivangi Pathak | Haryana | Mount Everest | India's First Young Mountaineering Women | Jawahar Institute of Mountain |BiharStory-India's No.1 Digital Media House

अरुणिमा सिन्हा को अपना आदर्श मानती है

हरियाणा (Haryana) की 16 साल की लड़की शिवांगी पाठक (Shivangi Pathak) ने गुरुवार को दुनिया की सबसे ऊंची चोटी (Highest Peak) माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) (29,000 फुट) को फतह कर इतिहास रच दिया | हिसार में जन्मी शिवांगी (Shivangi Pathak) का मकसद एवरेस्ट (Mount Everest) पर चढ़कर दुनिया को यह दिखाना था कि महिलाएं किसी भी लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम होती हैं | उन्‍होंने यह कारनामा ‘सेवन समिट ट्रेक’ (Seven Summit Trek) में हिस्सा लेने के दौरान किया | शिवांगी (Shivangi Pathak) माउंट एवरेस्‍ट (Mount Everest) पर तिरंगा फहराने वाली पहली दिव्यांग पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा (First Disable Mountaineering Women, Arunima Sinha) को अपनी प्रेरणा मानती हैं|

शिवांगी पाठक (Shivangi Pathak) पिछले महीने एक इंटरव्‍यू में कहा था, ‘मैं यहां पर अपने बचपन का सपना पूरा करने आई हूं | मेरा सिर्फ एक ही मकसद है कि मैं इस खूबसूरत ग्रह के हर पहाड़ की चोटी को फतह कर लूं.’ शिवांगी ने जवाहर इंस्‍टीट्यूट ऑफ माउंटेन (Jawahar Institute of Mountain) से अपना कोर्स किया है | इसके अलावा वो कश्‍मीर में भी ट्रेनिंग ले चुकी हैं | इस समिट में शिवांगी से पहले 14 मई की सुबह 8 बजे अरुणाचल प्रदेश की 40 वर्षीय मुरी लिंग्गी (Muri Linggi) ने एवरेस्ट फतह किया | लिंग्गी चार बेटियों की मां हैं | वह तिन मेना और अंशु जामसेनपा के बाद एवरेस्ट फतह करने वाली अरुणाचल प्रदेश की तीसरी महिला हैं |

शिवांगी का सपना था कि वह एवरेस्‍ट को फतह कर दुनिया को बताएं कि महिलाएं किसी से कम नहीं होतीं |

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar