Share Story :

दोस्तों कई बार किसी इन्सान के जीवन में घटित घटनाओं के कारण, उस इन्सान का जीने का नजरिया ही बदल जाता है | कुछ एसा हीं हुआ है उत्तरप्रदेश की सपना उपाध्यया के साथ जो अस्पताल तो गई थी अपनी बेटी का इलाज करवाने पर वहां पहुँच कर वहां मौजूद कैंसर पीड़ित बच्चों की स्थिति को देख कर उनका मन विचलित हो उठा | तभी से सपना उपाध्यया ने कैंसर पीड़ित बच्चों के महंगी दवाइयों के लिए पैसा इकठ्ठा कर उनकी मदद करती है, साथ हीं वो उनके पुनर्वास की भी व्यवस्था करवाती है |

एक छोटी सी घटना ने बदल डाली जिंदगी

वर्ष 2003 में सपना उपाध्यया की बेटी एक बीमारी से ग्रसित हो गई, इसी सिलसिले में सपना उपाध्यया का अस्पताल में आना-जाना लगा रहता था | इसी आने-जाने के क्रम में सपना उपाध्यया की मुलाकात वहां इलाज करवाने आये कैंसर पीड़ित बच्चों से हुई | वहां उन पीड़ित गरीब बच्चों को देख उनका ह्रदय द्रवित हो उठा, और उन्होंने ठाना की वो अब गरीब और असहाय कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए जो कुछ भी मुमकिन हो करेगी |

पर ये इतना आसन नहीं था

दोस्तों हम सभी जानते हैं की अगर आप कुछ अच्छा करने चलेंगे तो इसमें बाधाएं कुछ ज्यादा हीं आयेंगी, कुछ एसा ही सपना उपाध्यया के साथ भी हुआ, लोग उनपर विश्वास नहीं कर रहे थे पर सपना उपाध्यया ने हार नहीं मानी और लाख परेशानियों के बावजूद अपने रास्ते पर अडिग रही, और एक बच्ची जिसे बोनमैरो की बीमारी थी ऑस जिसका इलाज एस.पि.जी आई में होना था, उस पीड़ित बच्ची के इलाज के लिए 6 लाखकीजरुरत थी, सपना उपाध्यया ने वो भरी-भरकम रकम लोगों से कलेक्ट कर जुटा लिए |

इश्वर चाइल्ड फाउन्डेशन की नीव डाली

सपना उपाध्यया ने गरीब बच्चों की विधिवत रूप से मदद करने के लिए वर्ष 2005 में  इश्वर चाइल्ड फाउन्डेशन की नीव डाली | इस संस्था का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से गरीब कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए निःशुल्क दवाइयां उपलब्ध करवाना, खाना उपलब्ध करवाना तथा पीड़ित बच्चे तथा उनके परिवार का ठहरने का इंतजाम करना , जिसके लिए इश्वर चाइल्ड फाउन्डेशन की तरफ से आसरा नाम से घर बनवाया जहाँ पीड़ित बच्चे और उनके परिवार बिना कोई शुल्क दिए रह सकते हैं साथ ही यहाँ पर पीड़ित बच्चों के खेलने के लिए खिलौने का भी इंतजाम करवाया गया | इश्वर चाइल्ड फाउन्डेशन के द्वारा अब फ्री में एम्बुलेंस उपलब्ध करवाने के  अलावा अब ऑपरेशन फण्ड की भी व्यवस्था करने जा रही है ताकि गरीब बच्चों का समुचित इलाज हो सके |

सपना उपाध्यया अब तक के सफर में तक़रीबन चार हजार बच्चों की मदद कर उनकी जिंदगी बचा चुकी है

 

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar
Share Story :