Share Story :

आज बिहारी हर मामले में आगे हैं तो भला खाने में कैसे पीछे रहता | अगर हम बात करे बिहार में बनने वाले मिठाइयों की तो जितने प्रकार की मिठाइयाँ बिहार (Bihari Sweets) में बनाई जाती है, शायद ही कोई और राज्य होगा जहाँ इतने प्रकार की मिठाइयाँ बनती हो | और तो और यहाँ की बनी कई मिठाइयों (Bihari Sweets) ने विश्वपटल पर अपनी स्वाद की गहरी छाप छोड़ी है | तो आइये मित्रों चर्चा करते हैं बिहार में बनने वाली स्वादिष्ट मिठाइयों की |

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

ठेकुआ

स्वाद में मीठे, एकदम खस्ता, कुरकुरे ठेकुआ या खजूर बिहार की पारम्परिक मिठाई (Bihari Sweets) है, जिसका दीवाना हर एक बिहारी है| ठेकुआ को छठ पूजा के मौके पर विशेष रूप से बनाया जाता है | लेकिन इन्हें आप कभी भी बनाइए, कभी भी खिलाइए | ठेकुआ गेहूं के आटे, चीनी के घोल से बनते हैं |

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

खाजा

घर में अक्‍सर कुछ ना कुछ उत्‍सव होता ही रहता है, तो जाहिर सी बात है कि लोगों को अच्‍छा अच्‍छा पकवान भी बना कर खिलाना पड़ता होगा, ऐसे किसी भी अवसर पर आप मलाई खाजा बना सकते हैं। मलाई खाजा मिठाई बहुत ही स्‍वादिष्‍ट होती है और उसमें खूब सारी मलाई भी मिलाई जाती है। साथ ही इसे शुद्ध देसी घी में तला जाता है।

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

शक्करपारा

शक्कर (Bihari Sweets) की परत चढ़े शक्करपारें मिठास से भर पूर बहुत ही स्वादिष्ट होते हैं, इन्हें किसी भी त्योहार के अवसर पर या कभी भी बना कर रख लीजिए और मीठा खाने का मन हो तब खाइए। मैदा से बने शकरपारों को चीनी के घोल में निकाला जाता है।

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

मालपुआ

मालपुआ (Bihari Sweets) बिहार में विशेष अवसरों पर बनायी जाने वाली पकवान है | मालपुआ खाने में बेहद स्वादिष्ट होता हैं और इन्हें बनाने का तरीका भी बहुत आसान है | मालपुआ मीठे केले को मिक्स करके और मैदा या आटा और चीनी डाल कर, पानी या दूध की सहायता से घोल तैयार किया जाता है, इस घोल में इलाइची पीस कर मिलाई जाती है और इस घोल से केले के मालपुआ बनाए जाते हैं |

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

बालूशाही

बालूशाही (Bihari Sweets) खाने में एकदम खस्ता एवं स्वादिष्ट होती है एवं इसमें मावा का उपयोग नहीं होता। बिहार में बालूशाही विशेष रुप से दीपावली पर बनाई जाती है। आप इसे मैदा, घी और चीनी की सहायता से बना सकते हैं।

गुझिया

गुझिया (Bihari Sweets) बिहार की सबसे फेमस स्वीट्स सें से एक है। यह कई तरह से बनाई जाती है, मावा भरी गुझिया या मावा इलायची भरी गुझिया जिनके ऊपर चीनी की एक परत चढ़ी होती है। इसके अलावा सेब गुझिया, केसर गुझिया, मेवा गुझिया, अंजीर गुझिया, काजू गुझिया, पिस्ता गुझिया और बादाम गुझिया भी बनाई जाती हैं। आप अपनी मनचाही गुझिया बना सकते है।

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

परवल की मिठाई

परवल की मिठाई (Bihari Sweets) बड़ी स्वादिष्ट होती है, यह बिहार में खूब बनाई जाती है। यह मिठाई आप दीपावली, होली के त्योहार पर बना सकते हैं, इस मिठाई को आप अपनी किसी पार्टी के लिए बनाकर भी तैयार कर सकते हैं। इसे परवल और चीनी से बना सकते है, परवल में पिठ्ठी भरने के लिये खोया, बादाम, पिस्ते का उपयोग कर सकते हैं।

Khurma, Balushahi, Khajaa, Malpua, Thekua -Bihari Sweets | Bihar Traditional Sweets | India's top blog website | BiharStory-India's No.1 Digital Media House

खुरमा

बड़े-बड़े परात में सजे खुरमा (Bihari Sweets) की खुशबू व मिठास अपनी ओर एक बार जरूर खींच लेगी | क्योंकि जो एक बार मीठे और रसीले खुरमा का स्वाद चख ले वो इसका मुरीद बन जाता है| खुरमा मिठाई के मिठास की लोकप्रियता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि बिहार की पारंपरिक मिठाई खुरमा विदेशियों को भी खूब भाती है |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar
Share Story :