एक समाजसेवी (Social Worker) के लिए ये मायने नहीं रखता की आप कहाँ के रहने वाले हो या आपका धर्म क्या है उनके लिए तो सब एक समान हैं |आज की हमारी कहानी भी कुछ इसी तरह की सोंच रखने वाली जापान (Japan) की महिला समाजसेवी (Social Worker) मिहो तनबरा (Miho Tanbara) के बारे में है जिन्होंने देश की सरहद को भी मानव सेवा के आड़े नहीं आने दिया और बिहार मुजफ्फरपुर (Muzzafarpur, Bihar) के एक सुदूर गांव चोचहां में मिहो तनबरा (Miho Tanbara) 5.5 करोड़ रुपये की लागत से एक इन्टरनेशनल प्लस टू स्कूल खोल रही है |

बिहार से है गहरा नाता

पेशे से उद्योगपति और स्वभाव से समाजसेवी (Social Worker)  मिहो तनबरा (Miho Tanbara) बुद्ध के इस पावन धरती के लिए के लिए कुछ करना चाहती थी, भगवान बुद्ध और मदर टेरेसा के आदर्शों से प्रभावित मिहो (Miho Tanbara) जापान (Jappan) से बार बार वैशाली आती रहती है | अपनी इसी सोच को साकार करने के लिए मिहो (Miho Tanbara) मुजफ्फरपुर (Muzzafarpur, Bihar) की संस्था बुद्धा एजुकेशनल फाउन्डेशन (Buddha Educational Foundation) के साथ मिलकर फिलहाल एक प्लस टू स्कूल और एक सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Super Speciality Hospital) खोल रही है | जापान (Japan) की समाजसेवी (Social Worker) की इस पहल से गांव के लोग के लोग काफी खुश हैं | भारतीय ड्रेस में सजी संवरी मिहो तनवरा पंचशील इंटरनैशनल स्कूल का आधारशिला रखी |

स्कूल भवन का निर्माण शुरु हो गया है जिसकी पूरी लागत 5.5 करोड़ रुपये का वहन मिहो (Miho Tanbara) की संस्था कर रही है | संस्था नें इसके लिए 1.3 करोड़ की राशि का भूगतान कर भी दिया है |

मिहो तनबरा (Miho Tanbara) के दिल में भारत के लिए काफी इज्जत है क्योंकि भारत का इतिहास काफी पुराना है | इन सबके अलावा  मिहो की संस्था भारतीय कृषि के क्षेत्र में बेहतरी के लिए भी योजना बना रही है |

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar

Latest posts by niraj kumar (see all)