Share Story :

दोस्तों आज के समय में सोशल मिडिया की पहुँच घर-घर तक है पर उनमे से अधिकांश लोग सोशल मिडिया को सिर्फ मनोरंजन का साधन हीं मानते हैं, पर आज सोशल मिडिया सिर्फ मनोरंजन और विचारो के आदान-प्रदान तक ही सिमित नहीं रह गया है अगर आप चाहे तो इसके माध्यम से किसी की मदद भी की जा सकती है जैसे बिहार के समस्तीपुर के अविनाश कुमार राय करते हैं |

“पुराने कपड़े नई सोच” की शुरुआत की

आज किसी भी मध्यमवर्गीय परिवार के पास भी जाइये आप को उनके घर पर बहुत सारे एसे कपड़े मिल जायेंगे जो परिवार में इस्तेमाल नहीं होता है दूसरी तरफ आप कहीं भी नजर दौरायेंगे तो आप को वैसे लोग या बच्चे मिल जायेंगे जिनके पास पहनने तक के लिए कपड़े नहीं है | इन्ही बातों को ध्यान में रख समस्तीपुर के अविनाश कुमार राय अपने फेसबुक पेज समस्तीपुर टाउन के माध्यम से गरीबों और बच्चों के लिए मुहिम “पुराने कपड़े नई सोच” की शुरुआत की है | जिसके तहत अविनाश और उसकी टीम लोगों से पुराने कपड़ो को एकत्रित करके जरुरतमद लोगों तक पहुंचाने के नेक कार्य में  जुटे हैं ताकि कोई भी गरीब कपड़े के आभाव में सर्दी से ठुठुरताउ हुआ न दिखें साथ ही बच्चों के लिए किताब,कॉपी,सिलेट आदि बच्चों को वितरण किया जाता हैं ताकि कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित भी न रहें |

हर तरफ हो रही है सराहना

इस साकारात्मक कार्य में टीम को समाज से खासतौर से सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों का भरपूर समर्थन मिल रहा हैं | इस युवा की सोच को हर तरफ से सराहना मिल रहा हैं | इस कार्य में जिले के प्रसिद्ध इक्रो फेंडली मूर्तिकार और चित्रकार कुंदन कुमार राय और निःशुल्क शैक्षणिक स्थान के संचालक राजेश कुमार सुमन सहित अमन गुप्ता, शिवम जिम्मी, नवीन, बाबर खान अंशुल गुप्ता सुमित, अभिनव मिंटू, सत्यजीत मिश्रा, आरिफ हुसैन युवाओं की टोली सामाजिक कार्य में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar
Share Story :