Share Story :

महंगाई के इस युग में गरीबों को सबसे ज्यादा परेशानी बीमार पड़ने पर ही होती है, जो बीमार होने पर दोराहे पड़ खड़ा हो जाता है की वो खाने के लिए रोटी जुटाए या बीमारी के लिए दवा, पर इस युग में कुछ फरिश्ते अभी भी है, जो भगवान बनकर गरीबों के ईलाज के लिए तत्पर है | इनके लिए डॉक्टर की उपाधि भगवान का दिया एक तोहफा है जो जरूरतमंदों की भलाई करने के लिए है, ना कि सिर्फ और सिर्फ कमाई करने के लिए | डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ऐसे ही चिकित्सकों में से एक है जिन्होनें अपने पेशे के साथ- साथ सामाजिक कर्तव्य को आज भी जिंदा रखा है |

पिछले पचास वर्षो से फ़ीस के नाम पर लेते हैं मात्र 5 रूपए

रांची के लालपुर चौक स्थित डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के क्लिनीक में मरीजों की लंबी कतार रहती है | सिर्फ गरीब ही नहीं, समाज के हर तबके के लोग इनसे स्वास्थ्य सलाह और ईलाज के लिए आते है | ऐसे चिकित्सक विरले ही है, जो आज के इस महंगे चिकित्सा सेवाओं के युग में भी रोजाना सैकड़ों जरूरतमंद मरीजों को अपनी सेवाएं सिर्फ 5 रुपये में दे रहे हों |  80 साल के डॉ मुखर्जी 1966 से लेकर आज तक रांची में सिर्फ 5 रुपये के टोकन फीस में गरीब मरीजों का ईलाज कर रहे है | यही नहीं डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी वैसे मरीजों का मुफ्त में भी ईलाज करते है, जिनके पास 5 रुपये देने की भी क्षमता नही हैं | गरीबों के फरिश्ते के रुप में अपनी पहचान बना चुके डॉ मुखर्जी अपनी बढ़ती उम्र में भी रोजाना दो घंटे से भी ज्यादा समय गरीब मरीजों के ईलाज के लिए देते है। वहीं दवा कंपनियों से मिले मुफ्त दवाओं को भी डॉक्टर साहब जरुरतमंदों में बांट देते है | बढ़ती उम्र की वजह से अब सिर्फ शाम के दो-तीन घंटे का समय ही दे पाते हैं, लेकिन किसी भी मरीज को वापस नहीं लौटाते |

गरीबों के सच्चे हितैषी हैं डॉ मुखर्जी

“गरीब से गरीब आदमी का ईलाज पैसे की वजह से ना रूके, इसी सोच के साथ रांची में सन 1966 से मैं गरीबों को अपनी सेवा दे रहे हैं डॉ मुखर्जी | डॉ मुखर्जी के पास ऐसे भी आते है जिनके पास 5 रुपये भी नहीं होते है, वो  उनका ईलाज मुफ्त में करते हैं | स्कूल को आर्थिक सहायता, गरीब की बेटी की शादी, जरुरतमंद के ईलाज में मदद करना ये डॉ मुखर्जी के जिंदगी का हिस्सा है जो चलता रहता है | गरीबों के ईलाज के अलावा भी डॉ मुखर्जी हर तरह से समाज को अपनी सेवा देने की कोशिश करते हैं |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar
Share Story :