Share Story :

जहां ज्ञान का दीप जलता है , वहाँ से बड़ा एवं उससे पवित्र स्थल कुछ भी नहीं पर सरकारी विद्यालयों के भवनों की दुर्गति से सब वाकिफ है , ये कहानी है उत्तरप्रदेश के बहराइच जिले के रहने वाले मित्तल बन्धुवों की जिन्होंने एक प्राथमिक विद्यालय को गोद लेकर  उसकी रूप-रेखा को ऐसा  बदला की आप देखते रह जायेंगे |यह शख्स कोई और नहीं संदीप मित्तल है जो हरिशंकर मित्तल चैरिटेबल ट्रस्ट के जरिए समाज में अभूतपूर्व काम कर लोगों के बीच समाजसेवा कर रहे है |

government school dhapaalipurva bahraich u.p.

हरिशंकर मित्तल चैरिटेबल ट्रस्ट का समाज के लिए एक और सराहनिय  कार्य

हम जहाँ भी रहे जैसे भी रहे पर जब अपने चारो तरफ देखेंगे तब आपको कुछ-न-कुछ ऐसा मिल जायेगा जिसे आप बदलना चाहेंग पर अक्सर लोग देख कर अनदेखा कर देते हैं कि ये मेरी जिम्मेवारी नहीं है और सरकार को दोषी ठहरा देते हैं | वो बिरला ही होता है जो ऐसी सामाजिक समस्याओं और परेशानियों को बारीकी से देखकर उसे ठीक करने की कोशिश करता है उसे सही और दुरुस्त कर समाज में रह रहे लोगों के उपयुक्त बनाता है |

कुछ इसी तरह का सराहनिय  कार्य किया है संदीप मित्तल ने जिन्होंने  उत्तरप्रदेश के  बहराइच जिले में  एक सरकारी प्राथमिक विद्यालय , ढपाली पुरवा को हरिशंकर मित्तल चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा गोद लेकर उस खण्डहर रूपी प्राथमिक विद्यालय का सम्पूर्ण कायाकल्प कर दिया  | वुडेन टाइल्स , कार्टून से रंगी दीवारे, आकर्षक झूले, वाटरकूलर, मॉडर्न बेंच , गमले में हरे पौधों तथा  शानदार टॉयलेट को  देख अब  कोई नहीं कह सकता की ये एक सरकारी प्राथमिक विद्यालय है |एक प्राइवेट स्कूल की तरह सहित सारी सुविधाएं मुहैया कराई गयी है |

हर महीने होती है शिक्षक और अभिभावकों की मीटिंग

साथ ही आप को बताते चले की यह सरकारी प्राथमिक विद्यालय उत्तरप्रदेश का इकलौता विद्यालय है जहाँ प्राइवेट स्कूलों की तरह अभिभावक और शिक्षक की मीटिंग होती है, ताकि  बच्चों के माता पिता को पता चलता रहे की बच्चे का शैक्षणिक विकास हो रहा है या नहीं |

जहाँ चाह वहाँ राह

अगर समाज का प्रत्येक व्यक्ति अपनी सामाजिक जिम्मेवारी समझते हुए समाज की समस्या को अपनी समस्या समझ कर उसे दूर करने की ठान ले तभी हमारा समाज एक आदर्श समाज बन पायेगा | आपको बताते चले की इस कार्य से पहले से हीं मित्तल बंधू हरिशंकर मित्तल चैरिटेबल ट्रस्ट के माध्यम से अन्न रथ चलाते है जहाँ लोग मात्र पांच रूपए में ही भोजन कर सकते हैं |

 पढ़े स्टोरी अन्नरथ की :

सारे वजन उठा के देख लो पर गरीबों के लिए इस देश में दाल, रोटी ही सबसे भारी है – अन्न रथ अन्न रथ से केवल मात्र पांच रूपए में कोई भी भूखा व्यक्ति भोजन प्राप्त कर सकता है

Share Story :

भूख की समस्या आज हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी समस्या है और इसी भूख के खिलाफ उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के अमित मित्तल , संदीप मित्तल और संजीव मित्तल जो हरिशंकर […]

Share Story :
Posted in Doing The Different, Featured | Tagged , , , , | Leave a comment
niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar
Share Story :