साईं की रसोई के पीछे सोच थी लोगों को कम से कम कीमत में घर का बना घर जैसा खाना खिलाया जाये ।  इस सपने को साकार किया  पटना की अमृता सिंह , पल्लवी सिन्हा और अशोक कुमार वर्मा ने जिन्होंने खोला “साई की रसोई “ जो महज 5 रूपये में गरीबों के लिए भोजन का प्लेट उपलब्ध कराती है |आज भी इस देश में लाखों लोग भूखे पेट सोने को मजबूर हैं एसे में मानवता का नेक इरादा लेकर आई इस अनोखे पहल का आज सौंवा दिन है |ऐसी कर्तव्यनिष्ठा और सेवाभाव के लिए जितनी भी तारीफ की जाये वो कम है  |

भगवान के घर की दानपेटी- साईं की रसोई  

हमारे देश की आर्थिक नीतियों के सामने संपन्नता जितनी बड़ी चुनौती है, भूख उससे कई गुना बड़ी चुनौती है |भारत में ही करीब 20 करोड़ लोग हर रोज भूखे पेट सोने के लिए मजबूर हैं। इसका मतलब 4 में से हर एक बच्चा भूखा रहता है।

राजधानी पटना की रहने वाली दो महिलाओं ने इन गरीब परिवारों के दर्द को समझा और शुरू की ‘साईं की रसोई’ के नाम से एक छोटी सी पहल, वो पहल थी मात्र पांच रूपये में गरीबों को खाना खिलाना | एक बहुत ही सुन्दर सोच को लेकर शुरू किया गया कार्य असीम कठिनाईयों और मुसीबतों से भरा था , पर कहते है जहाँ चाह वहाँ राह  | अमृता सिंह , पल्लवी सिन्हा और अशोक वर्मा की पहल रंग लायी और देखते -देखते लगभग प्रतिदिन दो सौ लोगों के साथ शाम होते ही कंकडबाग के भूतनाथ रोड में मेला सा लग जाता है | चंद घंटों में ही सैकड़ों लोगों के लिए हज़ारों निवाले लेकर आई ‘साईं की रसोई ‘बदले में लाखों दुवाएँ बटोरकर चली जाती है |  

सौंवा दिन पर 3000 लोगों को पूरी, सब्जी और हलवा खिलाया गया

हम तो चले थे अकेले जानिबे मंजिल ,लोग आते गए और कारवां बनता गया | हालाकि दो दिन पहले ही 100वां दिन मनाया गया साईं की रसोई का लेकिन जिसमें लगभग 3000 लोगों को पूरी, सब्जी और हलवा खिलाया गया और इस दिन साई की  रसोई निःशुल्क थी | 9 सितम्बर को साईं की रसोई का सौंवा दिवस को यादगार तरीके से मनाया गया |

अमृता सिंह ,पल्लवी सिन्हा और अशोक वर्मा जी के इस सामाजिक अनुष्ठान में अन्य लोगों ने भी जमकर साथ दिया  साईं की रसोई के सौंवे दिन बिना किसी परेशानी के लगभग 3000 लोगों की भूख मिटी जो साईं की रसोई की लोकप्रियता को बयां कर रहा है | इस नेक कार्य में सहयोग करने के लिए बहुत सारे लोग और संस्थाए भी आगे आई , वो कहते है न कि अगर आप नेक कार्य कर रहे है  तो भगवान भी किसी न किसी माध्यम से मदद जरुर करते हैं |

संध्या भजन ने लोगों को किया मंत्रमुग्ध

साई की रसोई द्वारा वहाँ संध्या भजन का भी आयोजन किया गया | एक से एक बढ़कर कलाकारों ने इस माहौल को  ऐसा  भक्तिमय बनाया कि देखते ही देखते हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी और  लोग मंत्रमुग्ध होकर आनंद ले रहें थे और एक तरफ मुफ्त लंगर का लुत्फ़ उठा रहे थे |

भजन संध्या में कलाकार नीरज पांडेय तथा गायक सीमा सिंह जी ने श्री साईं की सेवा में समर्पित एक से बढ़ एक भजनों को पेश कर भक्तों को मंत्रमुग्ध कर दिया।  जब व्यस्त रोड पर साईं की रसोई में भीड़ उमड़ी तो पटना पुलिस ने इस भीड़ को बखूबी संभाला  |

साईं की रसोई के समर्पित और सम्मानित सदस्य अशोक कुमार वर्मा सहित जिन अन्य विशिष्ट लोगों का सहयोग प्राप्त हुआ वो हैं श्री अजय भगत, पंकज गुप्ता, अनूप कृष्ण, राजेश जी, गुड्डू जी, वार्ड पार्षद कंचन जी, श्याम जी, नीप्पू जी, मंटू जी  आदी ।इस मौके पर सुनील कुमार, शफीक खान, संतोष कुमार आदि भी  मौजूद थे।

 निःशुल्क नेत्र जाँच शिविर  का आयोजन

साईं की रसोई द्वारा सुबह में 100वें दिन के उपलक्ष्य पर निःशुल्क नेत्र जाँच शिविर आयोजित किया गया था  जिसका पूरा श्री   अखण्ड ज्योति आई हॉस्पिटल को जाता है जिसमें 1000 लोगों के आँख की जाँच की गई जिसमें  300 लोग  मोतियाबिंद के मरीज मिले जिनका मुफ्त ऑपरेशन नव अस्तित्व फाउंडेशन के सहयोग से कराया जाएगा ।


WATCH #VIDSTORY OF SAI KI RASOYI

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar