अभी ठीक से दूध के दांत भी नहीं टूटे हैं फिर भी ये (Bihari) बिहारी छोरा धमाल मचा के रख दिया | हाजीपुर (Hajipur) से दिल्ली (Delhi) कि 1200 किलोमीटर की दुरी को बौना साबित करते हुए (Bihar Hajipur) बिहार हाजीपुर के इस लड़के ने अस्सी घंटे में दौड़ कर साबित कर दिया की हम  (Bihari) बिहारी को अगर मौका दिया जाये तो कुछ भी कर सकने में सक्षम हैं |

गुदरी के लाल (Parvez Alam) परवेज आलम

वैशाली जिले के जंदाहा प्रखंड स्थित बिझरौली गाँव निवासी अब्दुल मदीना के पुत्र हैं (Parvez Alam) परवेज आलम | एक गरीब परिवार में जन्मे (Parvez Alam) परवेज आलम के पिता अब्दुल मदीना मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करते है | परवेज आलम (Parvez Alam) वर्ष 2006 से अबतक कई पदक जीत चुका है | हिमाचल प्रदेश में आयोजित नेशनल चैम्पियनशिप में 3000 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने के बाद भारतीय खेल विकास बोर्ड ने परवेज को साउथ एशियन गेम चयन की सूचना दी थी | सूचना मिलते ही परवेज ने कड़ी मेहनत आरंभ कर दिया था, पर एक गरीब परिवार में जन्मे परवेज का पैसे के आभाव में न तो पासपोर्ट बना और ना ही वीजा इसलिए काफी फजीहत झेलने के बाद भी उस खेल में शामिल नही हो सका | उस के बाद (Parvez Alam) परवेज आलम उर्फ टाईगर के मन में तरह-तरह के बातें उपज रही थी इसलिए परवेज आलम अपने मन मे एक अनोखा करने का ठाना और अपने गांव जंदाहा के बिझरौली से 15 जनवरी को दोपहर को दौड़ते हुए रवाना हुआ | उसके बाद सात दिनों तक दौड़ते सारण,यूपी के मउ,आजमगढ़ होते हुए (Delhi) दिल्ली पहुंचकर नया कीर्तिमान बनाया |

पी एम मोदी से मिलना चाहते हैं

परवेज आलम (Parvez Alam) के इस अनोखे कृतिमान से प्रभावित हो कर केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी (Parvez Alam) परवेज आलम का हौसला बढ़ाया, और बोले  (Bihar)बिहार और (Hajipur) हाजीपुर को गर्व है एसे प्रतिभाशाली धावक पर | आगे (Parvez Alam) परवेज आलम माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से मिल कर कहना चाहते हैं कि अगर मुझे देश के लिए अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिला तो मैं ओलाम्पिक में (India) भारत व (Bihar) बिहार का नाम रौशन कर सकता हूँ |

आज पूरा (Bihar) बिहार (Parvez Alam) परवेज पर नाज कर रहा है

मंगलवार को(Parvez Alam) परवेज आलम ने जैसे हीं फोन पर (Delhi) दिल्ली पहुंचने की सूचना दी, पुरे गांव में खुशी की लहर दौड़ गई है | सभी के मुंह से एक हीं बात निकल रही थी, बेटा हो तो परवेज जैसा |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar

Latest posts by niraj kumar (see all)