एक बार फिर बिहारी प्रतिभा ने विश्वपटल पर अपना लोहा मनवाया | बिहार गोपालगंज जिले के ये दोनों लाल को उनके द्वारा सैनिकों के लिए महत्वपूर्ण और बेहद उपयोगी डिवाइस बनाए जाने के कारण  इनका चयन अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए किया गया था |हालांकि इस टीम में चार बच्चे शामिल थे जिसमे दो पंजाब और दो छात्र बिहार के गोपालगंज जिले के विवेक कुमार और पीयूष कुमार है

सैनिकों के लिए उपयोगी एप का किया निर्माण

इन चारो बच्चों ने एक ऐसे एप का निर्माण किया है जो न केवल सैनिकों को अपडेट रखेगा बल्कि आपात स्थिति में उनकी मदद भी करेगा | आज हमारी भारतीय सेना अपनी जान जोखिम में डाल सरहद पर 24  घंटे डटे  रहते हैं, उनके लिए यह एप काफी मददगार साबित होगी |

कनाडा सरकार ने किया सम्मानित

बिहार गोपाल गंज के लाल विवेक कुमार और पियूष कुमार को इसी खोज  के लिए फ़रवरी में कनाडा सरकार ने किया सम्मानित  किया | साथ हीं प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पोस्ट के माध्यम से अवार्ड भेज सम्मानित किया | विवेक कुमार अपने जीवन में आगे वैज्ञानिक बन देश की सेवा करने की चाहत रखते हैं |

बिहार के गोपाल गंज के रहने वाले हैं दोनों प्रतिभाशाली बच्चे

विवेक कुमार बिहार के गोपालगंज के बैकुंठपुर प्रखंड के बनौरा गांव के स्व: त्रिभुषण कुमार प्रसाद के पुत्र विवेक कुमार है। जो आर्यभट्ट विज्ञान क्लब गोपालगंज के समन्यवक एवं श्री योगेंद्र ऋषिकुल उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रेवतीथ के 12 वी के छात्र है। जिन्होंने पहले भी सैनिकों के लिए उपयोगी डिवाइस पावर शु बनाया था। तथा गोपाल गंज के दूसरा छात्र थावे प्रखंड के एकडेरवा गांव के योगल किशोर पावन के पुत्र पीयूष कुमार जो आर्यभट्ट विज्ञान क्लब गोपाल गंज  के मुख्य सदस्य एवं उच्च वि० रामचन्द्र पुर  के पूर्व छात्र है |

इनका 4 छात्रों का टीम था जो चारों छात्रों का अपनी अपनी खुद दिमाग से  सैनिकों के लिए महत्वपूर्ण उपयोगी डिवाइस बना था। जो सैनिकों पर होने वाले आतंकवादी हमले को रोकने के लिए बॉडर सिकरोटरी सिस्टम बनाया था। कनाडा देश ने 12 फरवरी को चाल्स डारविन के जन्मदिन के शुभ अवसर पर गोपाल गंज के दोनों छात्रो को समान दिया। विवेक कुमार का 12वी के बोर्ड परीक्षा के कारण कनाडा नही जा सके ।विवेक के आवेदन पत्र के अनुसार। विवेक कुमार का अवार्ड भी पीयूष को दिया गया।

niraj kumar
Latest posts by niraj kumar (see all)