सच में दुनिया बहुत विचित्र है आज की ये कहानी भी इस दुनिया की तरह ही थोड़ी विचित्र है। जिसमें अच्छाइयों के रंग भी हैं और बुराई की छाप भी। मगर ये न तो किसी फिल्म की कहानी है, और न ही किसी नॉवेल की स्टोरी। ये कहानी है असल जिंदगी में एक खलनायक से नायक बनने की एक ऐसी कहानी है जो कई और जिंदगियों का रुख और नजरिया बदलने का माद्दा रखती है |

जो करता था चोरी वो आज भरता है बेसहारा लोगों का पेट

यह बात थोड़ी अजीब लगती है की जो दूसरों के घर चोरी करेगा वो इंसान बेसहारा लोगों को खाना भी खिला सकता है | लेकिन दिल को पिघला देने वाली ऐसी ही एक कहानी है ‘टी राजा’ की जो उन लाचार बेसहारा लोगों के लिए मसीहा बन कर आएं जिन्हें शायद हम सब देख कर अनदेखा कर देते हैं | बचपन में टी राजा घर में छोटी सी चोरी होने के वजह से निकाल दिए गए, घर से निकाल देने के बाद चैन्नई आकर चोरी करने लगे | पर एक दिन पुलिस की गिरफ्त में आ गए और जेल की सलाखों के पीछे चले गए | वहीं से उन्होंने जिंदगी का असली मायने सीखा, जहां उन्होंने एहसास हुआ कि ऐसे जिंदगी जीने का कोई मतलब नहीं है |

ऑटोरिक्शा और टैक्सी भी चलाया

जेल से निुकलने के बाद वह अपने परिवार के पास बैंगलुरू लौटे, जहां उन्होंने परिवार वालों से माफी मांगने के बाद कहा कि वह नए सिरे से जिंदगी की शुरूआत करेंगे | उन्होंने शुरू में ऑटोरिक्शा और टैक्सी चलाना शुरू किया, साथ ही ऑटोरिक्शा यूनियन में बॉडीगार्ड के तौर पर भी काम किया | लेकिन राजा की जिंदगी में सबसे अहम मोड़ उस वक्त आया जब उन्होंने सड़क किनारे एक वृद्ध महिला को तड़पते देखा। इलाज,देखरेख और साफ-सफाई के अभाव में उस महिला के शरीर पर पड़े घाव सड़ने लगे थे। राजा से ये देखा नहीं गया, उनका दिल तड़प उठा और अचानक एक बेरहम इंसान के अंदर जज्बातों का दरिया बह उठा। ये वही पल था जिसके बाद राजा ने अपनी पूरी जिंदगी बदल डाली। राजा उस बेसहारा महिला को अपने घर ले आए। उसके सभी घावों को अपने हांथों से साफ कर दवा लगाई, उसे नए कपड़े दिए और घर में रखकर उसकी सेवा करते रहे।

गरीबों की मदद के लिए बनाया न्यू आर्क मिशन ऑफ इंडिया संगठन (NAMI)

राजा ने 1997 में गरीबों की मदद करने के लिए एक संगठन बनाया जिसका नाम रखा न्यू आर्क मिशन ऑफ इंडिया (NAMI) | सबसे पहले उन्होंने एसपी रोड से एक वृद्ध बेसहारा महिला को उठाया और उसे अपने घर लाए, फिर उनकी देखभाल की | आज राजा करीब 700 से ज्यादा बेसहारा लोगों की मदद कर रहे हैं, वह इन सभी लोगों का तीन समय का खाना देते हैं, साथ ही उन्हें मेडिकल सुविधाएं देने के साथ बच्चों के लिए शिक्षा की भी व्यवस्था कराते हैं |

बीस सालों से कर रहे हैं गरीबों की मदद

सड़कों पर भीख मांगने वाले बच्चों और उनके साथ रहने वाले लोगों के बेहतर भविष्य के लिए टी राजू आगे आये और लगभग 20 साल से वो गरीबों, ज़रूरतमंद और बेसहारा लोगों की मदद कर रहे हैं | राजा कहते हैं ‘हम किसी दूसरे देश से कोई दूसरी मदर टेरेसा के आने की उम्मीद नहीं कर सकते, जरूरत पड़ने पर हम सब को एक दूसरे की मदद करनी होगी |

niraj kumar

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar

Latest posts by niraj kumar (see all)