पुराने स्मारकों ने ऐतिहासिक महत्व को जीवित रखा है और बिहार में हालिया निर्माण अच्छे वास्तुशिल्प मानक भी स्थापित कर रहे हैं। उनमें से एक सम्राट अशोक अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर भी है|

वास्तुशिल्प का चमत्कार है अशोक अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर|

जिसे अशोक कन्वेंशन सेंटर के रूप में भी जाना जाता है जो एक नवनिर्मित प्रतिष्ठान है। यह बिहार के बुनियादी ढांचे के खेल को उन्नत करता है। कन्वेंशन सेंटर एक वास्तुशिल्प चमत्कार है, जो एक बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है, और बिहार की सुंदरता में भी शामिल हो गया है।आज मै आपको कुछ  ऐसे तथ्य बताने जा रही हूँ जो  अशोक अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर की  शानदार संरचना को दर्शाता है :-

बिहार के माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दवारा साल 2014 में रखी गयी थी नींव |

अद्भुत अशोक सम्मेलन केंद्र का निर्माण केवल 3 वर्षों में पूरा हुआ। इसकी नींव फरवरी 2014 में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रखी थी। यह अप्रैल 2017 तक पूरा हो गया था। इतने कम समय में इतनी शानदार संरचना का निर्माण गौरव की बात है।सम्राट अशोक सम्मेलन केंद्र में तीन प्रमुख हस्ताक्षर भवन शामिल हैं-

बापू सभागर – एक सभागार जिसमें 5000 की क्षमता होती है।ज्ञान भवन – 800 की बैठने की क्षमता वाला एक और सभागार।स्भयता द्वार – मौर्य युग की कला शैली को दर्शाती एक बड़ी संरचना  |

12 एकड़ के इस विस्तार को बनाने के लिए 490 करोड़ की राशि खर्च की गयी है |

इस परियोजना की अवधारणा 2012 में ग्लोबल बिहार समिट के दौरान SKMemorial Hall के भार का अनावरण करने के लिए थी जो केवल 1500 लोगों के बैठने की क्षमता रखता था। सरकार ने 12 एकड़ के इस विस्तार को बनाने के लिए लगभग 490 करोड़ की राशि खर्च की, जिससे कई लोगों के लिए रोजगार उत्पन्न हुआ और कई लोगों के लिए आय पैदा की।

एक और सबसे बड़ा तथ्य यह है कि पेरिस में सुंदर एफिल टॉवर ने अपने निर्माण के दौरान 7000 मीट्रिक टन लोहे का उपयोग किया था, जबकि हमारा खुद का कन्वेंशन सेंटर भी 16,500 मीट्रिक टन लोहे से बना एक लोहे का ढांचा है जो कि उपयोग की गई राशि से अधिक है एफिल टॉवर का निर्माण|

भारत की सर्वश्रेष्ठ निर्माण परियोजनाओं के लिए दिया जाने वाला अवार्ड विश्वकर्मा अचीवमेंट अवार्ड जो 2018 मे अशोक कन्वेंशन सेंटर को मिल चूका है |

बिहार के गौरव को पुनर्स्थापित करने वाला एक अन्य महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर ने फरवरी 2018 में 10 वीं निर्माण उद्योग विकास परिषद विश्वकर्मा अचीवमेंट अवार्ड जीता। यह पुरस्कार भारत की सर्वश्रेष्ठ निर्माण परियोजनाओं को दिया गया है जो पुरस्कार के लिए मूल्यांकन इन मानकों पर आधारित है :-निर्माण लागत व समय, नवीन और इनोवेटिव तकनीक, इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, दक्षकर्मियों का उपयोग, पर्यावरण पर उसका प्रभाव, ग्रीन तकनीक का उपयोग, स्वास्थ्य और सुरक्षा आदि|फरवरी 2018 में, सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र, को भारत में सर्वश्रेष्ठ निर्माण परियोजनाओं के लिए 10 वीं सीआईडीसी विश्वकर्मा अचीवमेंट अवॉर्ड जीता।