किताब एक ऐसा शब्द है जिसमे किसी न किसी व्यक्ति की कहानी निहित होती है | हर इंसान के जीवन मे  इसका एक अलग ही स्थान होता है | चुनौती और मुश्किलों के पल में अजेय योद्धा नेल्सन मंडेला जिस कविता को बहुत संभालकर रखते थे, बारबार पढ़ते थे, उसका नाम ‘इन्विक्टस’ है, जिसका अर्थ है अपराजेय।

भोपाल की सबसे उम्र की 10 वर्षीया लॉयब्रेरियन बन चुकी है मुस्कान |

यह विक्टोरियन युग की 1875 में प्रकाशित कविता है, जिसे ब्रिटिश कवि विलियम अर्नेस्ट हेनली ने लिखी थी। हमारे देश में भी हर साल विश्व पुस्तक मेले की पदचाप सुनाई देने लगती है, पुस्तकें लिख-लिख कर तमाम लोग विश्व इतिहास में अमर हो चुके हैं।आज हम बात कर रहे है एक छोटी उम्र की मासूम बच्ची की जिसका नाम मुस्कान है जो भोपाल के  दुर्गा नगर झुग्गी क्षेत्र मे  रहती है जो महज 10 साल की है |    मुस्कान खुद प्राइमरी कक्षा में पढ़ती हैं लेकिन झुग्गी-झोपड़ी में बच्चों के लिए एक लाइब्रेरी चला रही हैं जहाँ  हजारों किताबें हैं। भविष्य में वह आईएएस ऑफिसर बनना चाहती हैं।

मुस्कान ने इस लाइब्रेरी की इसकी शुरुआत दिसंबर 2015 में की थी। उसके बाद जब राज्य शिक्षा केंद्र के अधिकारियों ने उनकी झुग्गी बस्ती का दौरा किया तो वहां सभी बच्चों को इकट्ठा कर एक क्विज प्रतियोगिता करवाई गई। उन दिनो तीसरी क्लास की छात्रा रहीं नन्ही मुस्कान प्रतियोगिता में फर्स्ट आईं तो अधिकारियों ने उन्हें 25 किताबों का सेट गिफ्ट किया। उस वक्त से ही उन्हे बच्चों की लायब्रेरी की धुन सवार हुई और आज भी वह स्कूल से लौटने के बाद लाइब्रेरी का काम संभालती हैं, जहां झुग्गी के गरीब बच्चे पढ़ने आते हैं। मुस्कान का मानना है कि, ‘जब आप एक लड़के को पढ़ाते हैं तो सिर्फ एक व्यक्ति पढ़ता है लेकिन एक लड़की को पढ़ाने का मतलब है कि आप पूरे समाज को पढ़ा रहे हैं।’

थॉट लीडर्स’ अवॉर्ड से नवाजा जा चूका है 10 वर्षीय मुस्कान को |

मुस्कान ने समाज के आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को शिक्षित करने का बीड़ा उठाया है। जिला अदालत के पास बसी इस बस्ती में लोगों को शिक्षित करने के लिए वह घर में ही लाइब्रेरी चला रही हैं। इस लाइब्रेरी से जुड़े अधिकांश लोग इससे उम्र में  काफी बड़े होते है । आज ये अपने  गांव मे  शिक्षा  का अलख जगा चुकी है |देश की इस सबसे कम उम्र की ‘लाइब्रेरियन’ को शिक्षा की अलख जगाने के लिए नीति आयोग की ओर से ‘थॉट लीडर्स’ अवॉर्ड मिल चुका हैगुजरात के मधीश पारीख ने मुस्कान का नाम डायना अवार्ड के लिए भेजा था|इस अवॉर्ड के लिए दुनिया भर से करीब पचास हजार एंट्री पहुंची थी|यह अवॉर्ड समाज में अनोखा काम करने वाले कम उम्र के बच्चों को दिया जाता है| मुस्कान देश और प्रदेश से की इकलौती बेटी है, जिन्हें इतनी कम उम्र में डायना प्रिसेंस अवॉर्ड मिला है|

दुनियाभर के 240 लोगों में चयनित होने वाली मुस्कान देश और प्रदेश की इकलौती बेटी थी |

इस अवॉर्ड के लिए वैसे तो दुनियाभर के 240 लोगों का चयन हुआ है, इनमें भोपाल की मुस्कान भी शामिल है|अवॉर्ड के रूप में प्रशस्ति पत्र दिया जाता है| यह अवार्ड उन्हें ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक ने दिया था। मुस्कान की लाइब्रेरी में हैं स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की प्रेरक प्रसंगों से भरी किताबें, कहानियां, राइम्स और पंचतंत्र की कहानियों की सीरिज।

मुस्कान की मां माया बताती हैं कि वह घर, स्कूल और खेल के मैदान में भी हर वक्त सिर्फ पढ़ने की बातें करती है। उसके दिन की शुरुआत किताबों के साथ ही होती है। पढ़ाई के प्रति उसके लगन को देखकर पाठ्य पुस्तक निगम और राज्य शिक्षा केंद्र की मदद से घर पर लाइब्रेरी बनी है।नन्ही मुस्कान बताती हैं- ‘जब 2015 में वह नौ साल की थीं, तीसरी-चौथी कक्षा में पढ़ रही थीं। उस दौरान घर के आस-पास बच्चों को ऐसे ही घूमते देखती थीं तो सोचने लगीं कि ये बच्चे खेलते रहते हैं या अपने मम्मी-पापा के साथ मिलकर उनके काम में हाथ बंटाते हैं लेकिन कभी पढ़ाई क्यों नहीं करते। तब उन्हे लगा कि जब सब बच्चे पढ़ते हैं तो ये क्यों नहीं? इन्हें भी पढ़ना-लिखना चाहिए, तभी एक दिन राज्य शिक्षा केंद्र के अधिकारियों ने हमारी बस्ती का दौरा किया, उस दिन के बाद से आज तक वह किताबों के मिशन में व्यस्त हैं।ये  अपने से छोटे बच्चों को  पढ़ाती भी है |  अच्छा लगता है। हर दिन यहां 30 से 35 बच्चे आते हैं। गर्मियों में संख्या और बढ़ जाती है। अब तो उऩकी लायब्रेरी में मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के भइया-दीदी आते हैं और यहां बच्चों को पढ़ाते भी हैं। वे बच्चों को सिंगिंग, डासिंग भी सिखाते हैं। उनकी लाइब्रेरी के लिए लोग देश के कोने-कोन से किताबें भेजते रहते हैं।

Srinu Parashar

Latest posts by Srinu Parashar (see all)