हमारे संबिधान के अनुसार हर एक बच्चे को शिक्षा  लेने है अधिकार है चाहे वो बच्चा गांव  के किसी क़स्बे का रहने वाला हो या शहर की चकाचौंध गलियों में पला बढ़ा  हो सामान शिक्षा  का अधिकार सब को है | आज भी  भारत के अंदर बहुत सारे ऐसे राज्य है जहाँ  के गांव मे  अभी भी शिक्षा  का अभाव है |

Sushant Sai Sunderam

मिलेनियम स्टार फाउंडेशन नामक एक संस्था जो बच्चों को अक्षर ज्ञान के साथ साथ खेल खुद , कराटे , संगीत एवं योग का भी ज्ञान  दे रही है |

भारत के इन्ही राज्यों में से एक है बिहार जहाँ के जमुई जिले में एक मुहीम एक तहत गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा  दिया जा रहा है | इस मुहीम चलने वाली संस्था का नाम है मिलेनियम स्टार फाउंडेशन | यह जमुई जिले के गिद्धौर प्रखंड स्थित सेवा गांव में  है | इस पाठशाला मे हर रोज 250 से अधिक गरीब लोगों को मुफ्त की शिक्षा विगत 3 महीनो से दी जा रही है | जहाँ बच्चों को अक्षर ज्ञान के साथ साथ खेल खुद , कराटे , संगीत एवं योग का भी ज्ञान  यहाँ की संचालिका अनीता मंडल, राखी कुमारी, सुनयना कुमारी द्वारा दिया जा रहा है |

Sushant Sai Sunderam

पाठशाला का निरीक्षण  करने दौरान किया कॉपी और पेन्सिलों का मुफ्त वितरण |

पिछले कुछ दिनों पहले सुशान्त साईं सुन्दरम Sushant Sai Sundaram जो की  मिलेनियम स्टार फाउंडेशन के अध्यक्ष है उनके  माध्यम से बच्चों को मुफ्त में  कॉपी और पेंसिल का वितरण किया जब वो पाठशाला का निरीक्षण  करने पहुंचे |इस अवसर पे पाठशाला की संचालिका श्रीमति अनीता मंडल ने जानकारी देते हुए कहा की आज मिलेनियम स्टार पाठशाला में वो बच्चे भी शिक्षा  ग्रहण करने आ रहे है जो कभी नियमित विद्यालय नहीं जाया करते थे , और आज अनुशासन में रह कर हर रोज पढाई मे  रूचि ले रहे है | उन्होंने अभिभावकों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आज सेवा जैसे छोटे से गांव में भी लोग अब शिक्षा का महत्व समझने लगे हैं|

Sushant Sai Sunderam

सुशान्त ने सहयोगियों को धन्यवाद देते हुए कहा की हर युवा की है ज़िम्मेवारी किसी संस्था को सुचारु रूप से चलाने में मदद करना |

उनकी इसी बातों पे गौर करते हुए मिलेनियम स्टार के अध्यक्ष सुशान्त साईं सुन्दरम Sushant Sai Sundaram  ने कहा कि हमारी कोशिश है कि सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल सके| और साथ साथ वहां उपस्थित युवा से आग्रह किया की  अपने दिनचर्या से कुछ  समय निकाल कर  निर्धन बच्चों की पढ़ाई पर दें|  सुशान्त साईं सुन्दरम ने वहां की संचालिका और उनके सहयोगियों को धन्यवाद देते हुए कहा की  इस पाठशाला का नियमित एवं सुचारु संचालन होते रहना एक बड़ी जिम्मेदारी है| आज आप सब की मेहनत  के बदौलत अब यहाँ के बच्चे पढाई में रुचि लेने लगे है |