सात साल की एक ऐसी  बच्ची जिसके विलक्षण प्रतिभा को देख कर आज पूरा देश हैरान है | हम बात कर रहे है लिसिप्रिया ( lispriya Kangujam ) की जो मणिपुर की रहने वाली है | इसका पूरा नाम लिसिप्रिया कंगुजम है | मणिपुर की रहने वाली  लिसिप्रिया कंगुजम  ( lispriya Kangujam ) को दुनिया के के बड़े मंच पे बोलने के लिए आमंत्रित  किया गया है | वह केवल सात साल की है, लेकिन उसकी विलक्षण प्रतिभा को देखकर आप हैरान हो जाएंगे।

मणिपुर की लिसिप्रिया ग्लोबल प्लेटफॉर्म फॉर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन 2019 के छठे सत्र में भाग लेने के लिए कर रही है पूरी तैयारी |

मणिपुर की रहने वाली लिसिप्रिया कंगुजम ( lispriya Kangujam ) को दुनिया के एक बड़े मंच पर बोलने के लिए आमंत्रित किया गया है। ये जेनेवा में आयोजित होने वाले ग्लोबल प्लेटफॉर्म फॉर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन 2019 के छठे सत्र में भाग लेने के लिए पूरी तरह तैयार है| ये  एपीएसी क्षेत्र के बच्चों का प्रतिनिधित्व करेंगी और संक्त राष्ट्र के साथ-साथ 3,000 अन्य प्रतिनिधियों और 140 देशों के प्रतिभागियों को संबोधित करेंगी। लिसिप्रिया इस समाहरोह में प्रकिर्तिक आपदाओं से होने वाले नुकसान को कम करने के तरीकों से अवगत कराएगी |

lispriya Kangujam

महज कक्षा २ में पढ़ने वाली बच्ची बताएगी आपदा जैसे घटनाओ से बचने के उपाय |

इस सत्र के आयोजन का विषय है  ‘रेजिलिएंट डिविडेंड: टुवर्ड्स सस्टेनेबल एंड इनक्लूसिव सोसाइटीज’। इस कार्यक्रम  का आयोजन स्विट्ज़रलैंड तथा संयुक्त राष्ट्र की सरकार  मिलकर 13 से 17 मई तक आयोजित करेगी | कक्षा 2 में पढ़ने वाली लिसिप्रिया ( lispriya Kangujam ) आज अन्तर्राष्ट्रीय युवा समिति में बाल आपदा जोखिम के समर्थक के रूप में कार्य कर रही है |लिसिप्रिया के अनुसार , जब वो प्रकिर्तिक आपदा से पीड़ित लोगों को टीवी पे देखती है तो वो डर  जाती है क्यूंकि बच्चों को अपने माता पिता को खोते हुए देखती हूँ | सबसे मैं  यही विनती करती हूँ की लोगों को  एक दूसरे की ऐसे परिस्थिति में मदद करनी चाहिये |

lispriya Kangujam

7 साल की उम्र में आठ देशों में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी है lispriya Kangujam लिसिप्रिया|

इस आयोजन में  सरकारी और अंतरसरकारी संगठन, संयुक्त राष्ट्र और अन्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की हिस्सेदारी होगी। रेड क्रॉस के राष्ट्रीय सोसायटी और रेड क्रिसेंट संगठन जैसे समूह भी इस कार्यक्रम में उपस्थित होंगे। यह पहली बार नहीं है जब लिसिप्रिया को किसी अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया हो। 2018 में उसे मंगोलिया के उलानबटार में आपदा जोखिम न्यूनीकरण पर 2018 एशिया मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में आमंत्रित किया गया था, जो 3 से 7 जुलाई तक आयोजित किया गया था। लिसिप्रिया ने सिर्फ 7 साल की उम्र में आठ देशों का दौरा किया है और कई जगहों पर भारत का प्रतिनिधित्व भी किया है।