लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व का भी दौर चल रहा है इस संस्करण में बहुत सारे राजनेता अपने चरित्र से अलग रूप में दिखते है एवं समस्या निवारण के लिए ज़मीनी स्तर पर परियोजना की शुरुआत करते है , पर चुनाव का बाद विपरीत इसका परिणाम होता है जिसकी जानकारी आप सबको होगी ; आज के समयनुसार आपको हर राजनेता आपको समाजसेवा करते नज़र आ जाएंगे , पर भोजपुर ज़िले के बहीरो गाँव के विक्रमादित्य सिंह उर्फ़ मन्टू जी की छवि एक सच्चे एवं निःस्वार्थ समाजसेवक के रूप में जानी जाती है । बिहार के आरा के चर्चित चेहरे में आने वाले व्यक्ति विक्रमादित्य सिंह अपनी पहचान गरीब-असहायों की मदद के लिए बनाय हुए है ।

छोटे से गाँव ने बताया समाजसेवा का महत्व 

भोजपुर ज़िले का बहीरो गांव अपनी एक अलग पहचान पर काबिज़ है ; पर 2000 की दशक में अपनी विकट परिस्थित से यह गाँव पीड़ित था जिसमे मूलभूत समस्याओ की कमी के कारण आम जरूरतें पूरी नही हो पाती थी जिसमे गन्दा पानी एवं ड्रेनेज की समस्या मुख्य थी । तब विक्रमादित्य सिंह एवं गाँव के स्थानीय निवासियों ने आपसी सहयोग कर एवं अपने कार्यो से गाँव मे मूलभूत सुविधाओं का संचार कराया और वहीं से विक्रमादित्य सिंह को अपने सामाजिक कार्यो के प्रति रुचि बढ़ते गयी ।

छात्र राजनीति एवं संघठन के जरिये की शहर में समाजसेवा 

विक्रमादित्य सिंह ने अपनी राजनीति की शुरुआत छात्र – राजनीति के द्वारा किया , जब उन्होंने अभिविप छात्र संगठन में अपनी हिस्सेदारी की , कॉलेज परिसर में किसी प्रकार की होने वाले समाजिक कार्यो में विक्रमादित्य सिंह जी की भागीदारी जरूर नजर आती थी चाहे वो वृक्षारोपण हो या फ़िर रक्तदान शिविर , कॉलेज परिसर के कार्यक्रमों में कई बार समाजिक कार्यो के प्रति दृढ़ता के लिए सम्मानित हुए है विक्रमादित्य सिंह ।

अपनी अलग संघठन बना कर पूरे ज़िले में सामाजिक कार्य के प्रति सद्भाव देते है 

विक्रमादित्य सिंह द्वारा एक युवाओं की संघठन का निर्माण किया गया है जिसके तहत युवा हर प्रज्ञति के सामाजिक कार्य के प्रति अपनी भागीदारी दर्ज कराते है ।

गौ-सेवा के लिए अधिक जाने जाता है संगठन 

विक्रमादित्य सिंह एवं उनके संगठन के युवा गौ-सेवक के रूप में जाने जाते है , शहर में किसी प्रकार की गाय पशू पर कोई आपत्ति होती है तो वहाँ उसके संचार के लिए विक्रमादित्य सिंह सदैव तात्पर्य रहते है । इलाज़ से लेकर दवा तक सारा खर्च का मुहैया विक्रमादित्य सिंह खुद करते है , गाय पशू के प्रति स्वाभाविक लगाव पर ही उन्होंने अपने आवास पर भी 4 गायों के लिए पशूशाला का निर्माण कराया है एवं खुद ही गायों की देखभाल भी करते है ।

राजनीति की स्तर को समाजसेवा में लाते है 

राजनीति के तहत रुचि के सहारे विक्रमादित्य सिंह किसी प्रकार की समाज मे दिक्कत का पूणतः आवाज़ उठाते है चाहे वो सदर हॉस्पिटल में सुविधा की कमी का मुद्दा हो या समाज मे अराजकता का माहौल हर तरह अपनी आवाज़ की बुलंदी को सदैव ऊपर रखकर सामाजिक कार्य करने में विश्वास रखते है ।
कुछ लोगों के बोलने पर की “वे सामाजिक कार्य का ढोंग कर राजनीतिक फ़ायदा उठाने ” पर सदैव एक बात बोलते थे कि राजनेता राजा नही होता , नेता कितना भी ऊँचा पद पर काबिज़ क्यों न रहे वो रहता जनता एवं समाज का नौकर ही है ।।

subham Gupta

Associate Author at BiharStory.in
एक स्टोरी राइटर, जिसका मकसद सामाजिक गतिविधियों एवं अपनी लेखनी के माध्यम से सामाजिक परिदृश्य को दिखाना ही नहीं बल्कि बदलाव के लिए सदैव प्रयासरत भी रहनाहै |
subham Gupta

Latest posts by subham Gupta (see all)