कुछ दिनों से देखा जाए तो मानो मुजफ्फरपुर में दुखों का कहर टूट पड़ा है |  चारो तरफ से चीख पुकार गूंज रही है हर उस माँ की जिसके बच्चे एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम ( Acute Encephalitis Syndrome )  से पीड़ित है और इस दुनिया को अलविदा कह रहे है | एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम जिसको आम भाषा मे चमकी  बुखार कहा जाता है |

Anonymous Youth

चमकी बुखार जो हो रहा है कच्चे लीची के सेवन से |

चमकी यह संक्रामक बीमारी नहीं है बल्कि ये कुपोषण से पीड़ित बच्चे जब कच्ची लीची का सेवन करते है तो उसमे उपस्थित टॉक्सिन कुपोषण से पीड़ित बच्चों के शरीर को प्रभावित करता है | इसलिए इसका सही गुनहगार लीची नहीं बल्कि कुपोषण है |

Anonymous Youth

मरने वाले बच्चों की आयु महज है 5-10 साल के बीच |

चमकी बुखार की वजह से मुजफ्फरपुर मे पीड़ित बच्चों की संख्या 150 के पार बताई जा रही है | मरने वाले बच्चों की आयु 5-10 साल के बीच है | कुछ दिनों से चल रहा ये चमकी बुखार से हर घर तबाह हो रहा है जिसके समाधान के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा था पर हर प्रयास असफल साबित हो रहा था |किसी ने सच ही कहा है विपत्ति जब आती है तो संभालना काफी मुश्किल हो जाता है पर नामुमकिन नहीं ऐसा ही कुछ कर दिखाया है मुज़्ज़फरपुर के कुछ गुमनाम युवा (Anonymous Youth ) ने जिनकी छोटी सी कोशिश  ने व्यापक असर दिखाया है | इनके दुवारा चलाये गए अभियान धीरे धीरे सफल साबित हो रहे है |

Also read : ‘बिहारी भाषा’ विशिष्ट लहजे में बोली जाने वाली शब्दों की एक विशिष्ट पसंद है|

Anonymous Youth

मुज़्ज़फरपुर का गुमनाम युवा (Anonymous Youth ) बना गरीब माँ बाप के लिए एक नई उम्मीद की किरण |

गुमनाम युवा ने गांव  पहुँच के लोगों को इस बीमारी से अवगत कराया और उससे बचाव के तरीके भी बताते है | गुमनाम युवा (Anonymous Youth ) ने एक सरकारी जागरूकता पुस्तिका और लाउडस्पीकर के माध्यम से वहां के लोगों को स्थानिक मे जागरूकता फैला रहे है | जिससे पीड़ित के माता पिता अपने बच्चे को बचाने का भरसक कोशिश कर रहे है | कोई भी बच्चा अगर बीमार होता है तो उनको झोला छाप (क्वैक) या मेडिकल दुकान ले जाने के बजाय वहां के पास के स्वास्थ  केंद्रों पर ले जाया जाए ताकि उनका प्राथमिक इलाज हो सके | गुमनाम युवा (Anonymous Youth ) का ये अभियान उस गरीब माँ बाप के लिए एक नई उम्मीद बनकर उभर चुकी है |  जहाँ इस बुखार से मरने वालों की संख्या रोज 20-25रहती थी आज 1-2 से पे आके रुकी है|