‘हमारा पटना सुन्दर पटना’ ये शब्द सुनने में तो बहुत अच्छा लगता है, पर क्या कभी आप अपने शहर पटना को सुन्दर बनाने के लिए ऐसा कुछ कर रहे हैं जिससे आपका पटना शहर सुन्दर दिखे | सरकार तो अपना कार्य कर रही है पर हम लोग, जो सुन्दर है उसपर भी कालिख पोतने का कार्य करते हैं | राजधानी पटना Patna के कुछ ( Handicapped ) दिव्यांग जनों का समूह वैसे लोग जो शहर को गंदा करते हैं उनको अपनी जिम्मेवारी का अहसास कराने के लिए एक नायाब तरीका ईजाद किया है |

 Handicapped

शहर को गन्दा करने वालों को देते हैं गुलाब का फूल

दिव्यांग जनों ( Handicapped ) की ये टोली, प्रसिद्ध समाजसेवक भरत कौशिक के नेतृत्व में इस सराहनीये कार्य को अंजाम देते हैं |  दिव्यांग जनों ( Handicapped ) की ये टोली अपने खाली वक्त में अपने हांथ में गुलाब का फूल लेकर पटना के किसी एक इलाके में जाकर डट जाते हैं और उस इलाके में उन्हें कोई व्यक्ति दिवाल या किसी जगह को गन्दा करता दिख जाता है तो पास आकर उस व्यक्ति को ये टोली गुलाब का फूल देकर जिम्मेवारी का अहसास कराते हैं | भले यह प्रयास छोटा जरूर नजर आता है, पर इसकी गूंज बहुत दूर तक सुनाई देती है |

Handicapped

हजारों लोगों को करा चुके हैं जिम्मेवारी का अहसास

राजधानी पटना Patna की ये टोली पटना के वैसे इलाके जहां पर लोग दीवार पर बने मधुबनी पेंटिंग पर पेशाब करके या पान गुटखा से नुकसान पहुंचाते हैं वहां तैनात हो जाते हैं, और जैसे हीं कोई व्यक्ति दीवाल को गन्दा करते दिख जाता है उसे पकड़ कर गांधीगिरी स्टाइल में गुलाब का फूल दे कर जिम्मेवारी का अहसास  कराते  हैं | आप तक ये लोग हजारों लोगों को गांधीगिरी स्टाइल में  जिम्मेवारी का अहसास  करा चुके हैं |

Handicapped

इसे भी पढ़े :

90 प्रतिशत शरीर का हिस्सा काम नही करता , फिर भी देते के गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा

अपनों से परायों जैसा व्यवहार क्यों

इस टीम को नेतृत्व करने वाले भरत कौशिक कहते हैं – क्या आप अपने घर में जहां-तहां टॉयलेट करते हैं, अपने घर के हर कोने में थूक या पान का पिक फेंकते हैं  , कचड़े को अपने घर में हर जगह रखते हैं , जाहिर सी बात है ‘नहीं’ क्योंकि इन सब के लिए घर में जगह बना हुआ है, तब आप घर से बाहर इन बातों को अमल में क्यों नहीं लाते |  क्यों आप जहां-तहां पान खा के दिवाल को गन्दा करते हैं, जहां मर्जी वहां कचड़ा फेंक देते हैं | क्या ये Bihar  आप का नहीं है, क्या आप यहाँ के नागरिक नहीं हैं | घर को साफ रखने की जो जिम्मेवारी आप अपने घर में निभाते हैं ठीक उसी तरह की जिम्मेवारी आप घर से बाहर भी निभाएं, यकीन कीजिये आपका शहर दुनिया की सबसे खूबसूरत शहरों में शुमार होगा |

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar