भारत का एक छोटा सा राज्य जो अपनी सुन्दरता से देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी है मशहूर | बिहार एक ऐसा राज्य जहाँ की प्रकीर्ति अपनी अलग ही सुंदरता बिखेरे हुए है कही हरियाली तो कही  झरने इसकी सुंदरता में चार चाँद लगाए है |

बिहार एक ऐसा राज्य जहाँ वर्षा ऋतु में 200 से भी अधिक झरने मिलते है देखने को

बिहार के इसी झरने में मशहूर है रोहतास जिले का कशिश झरना जो अपनी सुंदरता के लिए मशहूर है |बिहार की राजधानी पटना से 170 किमी दूर स्थित रोहतास जिले के अमझोर गांव में स्थित और अपनी सुन्दरता से तीर्थकरों को आकर्षित करने वाला यह झरना जिसका नाम कशिश है | जो बिहार के 200 झरनो की सूची में से एक है | कहा जाता है की अकबर के प्रसाशन काल में अबू फज़ल नामक एक इतिहासकार जिसने फारसी में लिखी एक पुस्तक के माध्यम से इसका उल्लेख किया है जिसके अनुसार बिहार एक ऐसा राज्य जहाँ वर्षा ऋतु में200 से भी अधिक झरने देखने को मिलते है |

 

कशिश झरना जहाँ निस्संदेह दिन से उभरने वाली शाम जो एक स्वर्गीय एहसास देता है

रोहतास जिले का यह कशिश झरना जहाँ के जलप्रपात की ऊंचाई लगभग 800 फीट है और स्थानीय लोगों के अनुसार, पहाड़ से तीन दिशाओं में गिरने वाले 4 झरने देख सकते हैं। अरस्तू  अनुसार  “प्रकृति की सभी चीज़ों में कुछ अद्भुत  है।” जिसकी  सुंदरता कल्पना से परे है और जो प्रकृति की परियों की कहानी को बयान करती है।

ये झरना निस्संदेह दिन से उभरने वाली शाम का आनंद लेना एक स्वर्गीय एहसास देता है। तरह तरह के सूरज की किरणों से भरे बादल धुँधले क्षितिज के साथ प्रवेश करते हैं और शांत मुस्कान के साथ  बाहर झाँकते हैं।

कशिश झरना जिसके पास बनता है सल्फर वॉटर लैगून जिसमे  स्नान करना माना जाता स्वास्थ्य के लिए बहुत सौम्य

ऐसा देखा गया है की कशिश झरने के पास सल्फर वॉटर लैगून बनते हैं जिसमे  स्नान करना स्वास्थ्य के लिए बहुत सौम्य माना जाता है।इस झरने के निकट बी पी सी एल  की एक फैक्ट्री  स्थित है  जो पहले  सल्फर खनन का काम करती थी। बिहार-झारखंड के विभाजन के बाद इसे बंद कर दिया गया था। स्थानीय समर्थन के बिना गंतव्य तक पहुंचना एक कठिन काम है। इस झरने के आस पास बहुत सारे जंगली प्रजातियों के  जानवर होते है जिसे इस क्षेत्र में बार बार देखा जाता है जिससे यहां घूमने आने वालों को खतरा हो सकता है इसलिये इस स्थान का ज्ञान होना अति आवश्यक है जो झरने का दौरा करते समय मददगार होगा |

इस झरने का आनंद लेने के लिए देश के अन्य राज्यों से भी आते है सैलानी

इस क्षेत्र के स्थानीय लोग बहुत सहायक हैं और उस गाँव के मुखिया ने भी झरने के पास एक प्रकार का शेड बनवाया है ताकि वहाँ पर लोग पिकनिक का आनंद ले सकें।इस झरना का लुत्फ उठाने रोहतास ही नहीं बगल के कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद, गया, बनारस, रांची व पटना के अलावे देश के अन्य राज्यों से भी सैलानी पहुंचते है |