बिहार में बीते 48 घंटे से लगताार मूसलाधार  बारिश हो रही है।और इस बारिश की वजह से पटना का चप्पा-चप्पा जलमग्न हो चूका है |   इसका असर जन-जीवन पर पड़ा है। सड़क, रेल व वायु यातायात प्रभावित हुए हैं। उधर, गंगा समेत सभी छोटी-बड़ी नदियां उफान पर हैं। इस कारण पीछे से बाढ़ भी आती दिख रही है। पटना की बात करें तो करीब 45 साल बाद ऐसा जल-जमाव देखने को मिला है। इसने 1975 की बाढ़ की याद दिला दी है, जब पटना डूब गया था।

जगह-जगह जल-जमाव, घरों में घुसा पानी

पटना में शनिवार को 177 मिमी बारिश हुई। इसने बीते तीन सितंबर 2013 की 158 मिमी बारिश के रिकार्ड को तोड़ दिया। शुक्रवार रात से तो तेज बारिश के कारण पटना में भारी जल-जमाव के हालात हो गए हैं। सैकड़ों घरों में बारिश का पानी घुस गया है। पटना के राजेंद्रनगर, कंकड़बाग, लंगर टोली, बहादुरपुर, गर्दनीबाग, सरिस्ताबाद, चांदमारी रोड, पोस्टल पार्क, इंदिरानगर, संजय नगर, अशोक नगर, बोरिंग रोड, पाटलिपुत्र कॉलोनी, श्रीकृष्णापुरी, राजीवनगर, रामकृष्णानगर, संदलपुर, दीघा व कुर्जी आदि इलाकों में जगह-जगह जल-जमाव हो गया है। हालत यह हो गई है कि कई जगह जिला प्रशासन की ओर से नौका परिचालन किया जा रहा है।

बारिश के वजह से अब तक गई सत्रह जानें

बिहार की राजधानी पटना में बारिश का कहर जारी है। लोगों का सामान्य जीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। सड़कों पर पानी लबालब है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की टीमें शहर में तैनात हैं और बचाव कार्य जारी है। लोगों को और जानवरों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। खगौल में एक ऑटो पर पेड़ गिरने से चार लोगों की मौत हो गई। वहीं भागलपुर में भारी बारिश के बाद दीवार गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई, कई लोगों के फंसे होने की आशंका है। बिहार में बाढ़ और लगातार बारिश के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है।

आफत में है जान

लगातार बारिश ने लोगों का जीना कर दिया है मोहाल। सड़कों पर 3 फीट से लेकर 5 फीट तक चल रहा है बारिश का पानी. पटना पूरी तरीके से पानी पानी हो गया है। विधायकों और मंत्रियों के सरकारी आवास में भी घुस चुका है पानी। सड़कें पानी से लबालब हो गई है। निचले इलाकों में 1 मंजिल तक पानी भर चुका है। लोग घर से निकल नहीं पा रहे हैं। पटना के लोग बारिश की मुसीबत में फंस चुके हैं। एनएमसीएच से लेकर पीएमसीएच तक मरीजों का हाल बहुत ही बुरा है।

जिंदगी बचाने की जद्दोजहद कर रहे लोग

बारिश ने कुछ ऐसा हाल कर दिया है पटना का की दर्जनों ट्रेनें रद्द कर दी गई है तो दर्जनों ट्रेनें काफी देरी से चल रही हैं । रेल ट्रैक पर पानी भरा हुआ है तो जक्शन भी पानी से लबालब नजर आ रहा है. पटना का अधिकतर इलाका पानी से तालाब बन गया है. उस पर बारिश लगातार हो रही है. कोई सामान निकाल रहा है तो कोई खाने की सामानों को बचाने की कोशिश कर रहा है। कोई अपनी दुकान को बचाने में जुटा हुआ है तो कोई अपने शोरूम के समान को संभालने में लगा है तो कोई खाना ढूंढ रहा है तो कोई पीने के लिए पानी ढूंढ रहा है। कोई रिक्शा बचाने के लिए जोर जोर से चिल्ला रहा है तो कोई जिंदगी बचाने के लिए यहां से वहां भाग रहा है । क्या अस्पताल क्या दफ्तर क्या स्कूल हर जगह का हाल बेहाल नजर आ रहा है। पटना राजधानी पानी में डूबता हुआ नजर आ रहा है। छात्र-छात्राएं छात्रावासों में फंसे हुए हैं। झुग्गी झोपड़ी वाले अपनी जिंदगी बचाने की जद्दोजहद कर रहे हैं। कई जगह राहत बचाव काम जारी है, लेकिन लगातार हो रही बारिश ने और मुसीबत बढ़ा दी है | 30 सितंबर तक भारी बारिश

पटना में मौसम विभाग ने 30 सितंबर तक भारी बारिश की भविष्यवाणी की है, जिला प्रशासन ने मंगलवार तक सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है। पटना में बारिश से हाल कितने बुरे हैं, उसका अंदाजा इन तस्वीरों से लगाया जा सकता है। पानी शोरूम के अंदर तक घुस गया है और कपड़े पूरी तरह से पानी में डूब चुके हैं।

niraj kumar

एक बेहतरीन हिंदी स्टोरी राइटर , और समाज में अच्छीबातोंको ढूंढ कर दुनिया के सामने उदाहरण के तौर पे पेश करते है |
niraj kumar