शाहबाज नदीम धीमी गति के बाएं हाथ के ऑर्थोडॉक्स गेंदबाज हैं और ये  बिहार अंडर-14  टीम और भारतीय अंडर-19  के लिए खेल चुके हैं तथा वर्तमान में झारखंड और दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए खेलते हैं | अपने लगातार अच्छे प्रदर्शन के कारण कुलदीप यादव के अचानक चोटिल हो जाने के वजह से उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच 19 अक्टूबर 2019 में जो कि राँची में होने वाला था उसमें शामिल किया गया था जिसका शाहबाज नदीम ने भरपूर लाभ उठाया और मैच में चार विकेट चटकाए |

अच्छे प्रदर्शन का मिला इनाम

शाहबाज नदीम को साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे और अंतिम टेस्ट के लिए प्लेइंग इलेवन में शामिल करना भले ही हैरान करने वाला फैसला रहा हो। लेकिन टीम इंडिया के बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ का मानना है कि बाएं हाथ के इस युवा स्पिन गेंदबाज को घरेलू क्रिकेट में उनके अच्छे प्रदर्शन का इनाम मिला। 14 घंटे पहले उन्हें चोटिल कुलदीप यादव की जगह शामिल किया गया था।

मैच से पहले काफी नर्वस थे शाहनवाज़ नदीम

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जारी तीसरे टेस्ट से अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले भारतीय लेफ्ट आर्म स्पिनर शहबाज नदीम फिलहाल रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे सीनियर खिलाड़ियों से काफी कुछ सीख रहे हैं। पहले मैच में अपनी नर्वसनेस को लेकर बात करते हुए बायें हाथ के इस स्पिनर ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट की सिर्फ पहली तीन गेंदों तक ही वह नर्वस थे। अपने घरेलू मैदान पर टेस्ट करियर का पहला मैच खेल रहे 30 वर्षीय नदीम ने दो विकेट लिये। मैच के बाद नदीम ने कहा कि उन्हें बेहतर नतीजों के लिये अपने गेंदबाजी एक्शन में सुधार करना होगा। दक्षिण अफ्रीका की टीम पहली पारी में 162 रन पर आउट हो गई। नदीम ने साथ ही कहा कि अश्विन और जडेजा जैसे सीनियर खिलाड़ियों के साथ खेलने से उनके खेल में काफी सुधार हुआ है और उन्हें काफी कुछ सीखने को मिला है।

पिता ने जला दिया था बल्ला

बिहार के मुजफ्फरपुर निवासी व बाद में झारखंड में बसने वाले युवा क्रिकेटर शाहबाज नदीम के  के पिता  स्पेशल ब्रांच के डीएसपी पद से सेवानिवृत्त जावेद महमूद बेटे की इस उपलब्धि से खासे उत्साहित हैं।

शाहबाज नदीमजब पहली बार बल्ला पकड़े थे तब, तब वे बहुत नाराज हुए थे और उनके बल्ले को जला दिए थे  तब उसने वादा किया था कि वह भारत के लिए खेलकर दिखाएगा। उसके जुनून को देखकर बाद में उसे प्रोत्साहित किया। आज उसने मेरा सपना पूरा कर दिया। शहर का बेटा शाहबाज नदीम भारत के लिए खेलेगा, यह यहां के क्रिकेट खिलाडिय़ों के लिए गौरव की बात है। इस उपलब्धि के साथ वह मुजफ्फरपुर की अंतरराष्ट्रीय पहचान बन गया है। नदीम की उपलब्धि पर जिला क्रिकेट संघ के पूर्व अध्यक्ष परमानंद सिन्हा उर्फ बमबम जी, पूर्व सचिव रविशंकर शर्मा, अमोद दत्ता, नरेंद्र शर्मा, उत्पल रंजन, मनोज कुमार सिंह आदि ने नदीम के साथ-साथ उसके परिवार को बधाई दी है। कहा कि यह शान की बात है कि शहर का बेटा भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम का हिस्सा बना है।