देश के जाने माने गणितज्ञ बिहार के अमूल्य धरोहर वशिष्‍ठ नारायण सिंह का 74 वर्ष की अवस्‍था में निधन हो गया | वशिष्ठ नाराय़ण सिंह अपने परिजनों के संग पटना के कुल्हरिया कंपलेक्स में रहते थे। आज आले सुबह उनके मुंह से खून निकलने लगा तब तत्काल परिजन पीएमसीएच लेकर गए जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया, इस खबर से पूरा बिहार गमगीन है।  वशिष्ठ नारायण सिंह बहुत दिनों से बीमार थे और सिंह शिजोफ्रेनिया से पीड़‍ित थे | वशिष्ठ नारायण सिंह  के निधन से समाज को अपूरणीय क्षति हुई है।

आरा के बसंतपुर के रहने वाले थे  वशिष्ठ नारायण सिंह

बेहद गरीब परिवार में जन्‍मे सिंह ने छठी कक्षा में नेतरहाट के एक स्कूल में ऐडमिशन लिया। इसके बाद उन्‍होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। एक गरीब घर का लड़का हर क्लास में कामयाबी की नई इबारत लिख रहा था। वे पटना साइंस कॉलेज में पढ़ रहे थे कि तभी किस्मत चमकी और कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जॉन कैली की नजर उन पर पड़ी जिसके बाद वशिष्ठ नारायण 1965 में अमेरिका चले गए और वहीं से 1969 में उन्होंने PHD की थी।

डा वशिष्ठ नारायण सिंह की जीवन पर जल्‍द ही फिल्‍म बनेगी

बिहार के महान गणितज्ञ डा वशिष्ठ नारायण सिंह की जीवन पर जल्‍द ही फिल्‍म बनेगी |  प्रोड्यूसर प्रीति सिन्‍हा, को-प्रोड्यूसर नम्रता सिन्‍हा व अमोद सिन्‍हा ने इसके पुख्ता संकेत दिये हैं प्रीति सिन्‍हा मानती हैं कि वशिष्ठ बाबू की बॉयोपिक को लोगों को सामने आना चाहिए | इसलिए हम उनकी अनटोल्‍ड स्‍टोरी को बॉयोपिक के जरिये पर्दे पर लाने की कोशिश कर रहे हैं |

इसके लिए उन्होंने उनके परिवार से राइट ले लिये हैं |  उनकी बॉयोपिक को बिहार के ही जाने- माने निर्देशक प्रकाश झा निर्देशित करेंगे |  उन्‍होंने फिल्म निर्देशन के लिये हामी भर दी है | फिलहाल वह इसके कास्टिंग पर काम कर रही हैं, जिसकी घोषणा भी वह आर्टिस्‍टों के कंफर्मेशन के बाद करेंगी