प्रत्यय अमृत भारत के बिहार राज्य में एक भारतीय वरिष्ठ भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं और गाँवों के विद्युतीकरण कार्य करने, बिजली विभाग के कामकाज को सुव्यवस्थित करने और बिहार में सड़कों और पुलों के निर्माण के लिए जाने जाते हैं।

31 दिसंबर 2018 Central Government का टारगेट था की उन्हें 100% इलेक्ट्रिसिटी को टारगेट करना है और प्रत्यय अमृत ने उसे दो महीने पहले हीं पूरा कर दिया।

जब IAS अधिकारी प्रत्यय अमृत ने एक सरकारी संगठन को दिवालियापन के कगार से बचाया –

दीवारें धँसी हुई थीं, कुर्सियाँ टूटी हुई थीं और पर्दे फटे हुए थे, और यह मेरे इमेजिनेशन से बिलकुल अलग था। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था की ”
“यह बिल्कुल एक कार्यालय की तरह नहीं दिखता था। मुझे नहीं पता कि कहां से शुरू करना है, ” 2006 में जब मितभाषी आईएएस अधिकारी ने प्रबंध निदेशक (एमडी) के रूप में पदभार संभाला, तो बिहार राज्य पुल निर्माण निगम (बीआरपीएनएन) का कारोबार रु ४७ था और राज्य सरकार ने इसे बंद करने का मन बना लिया था । प्रत्यय अमृत ने दो साल के भीतर ही सरकार और सभी को चौंका दिया जब बीआरपीएनएन संगठन कोसी बाढ़ के दौरान मुख्यमंत्री राहत कोष में 20 करोड़ रुपये दान करने की स्थिति में था।

टारगेट वक़्त से पहले ही पूरा किया –
बिहार राज्य पुल निर्माण निगम (BRPNN) के एमडी के रूप में 300 मेजर ब्रिज का निर्माण इन्होने मात्र 3 साल में कर दिया।
लगभग एक दशक से बीआरपीएनएन का जो भारी नुकसान हो रहा था, उसने इसे परिसमापन के कगार पर पहुंचा दिया था और लंबित परियोजनाओं को पूरा करना था, और कुछ परियोजना 17 वर्षों से लंबित थीं। लेकिन ऐसा करना आसान था। व्यवस्था में बुनियादी सुविधाओं का अभाव था और कर्मचारियों का मनोबल कम था।फिर भी प्रत्यय अमृत ने सबका मनोबल बढ़या और लक्ष्य को समय के पहले ही पूरा किया। BRPNN, जिसने अपनी स्थापना के पहले 30 वर्षों के दौरान 314 पुलों को पूरा किया था, प्रत्यय अमृत ने केवल तीन वर्षों में 336 पुल परियोजनाओं को सफलतापूर्वक निष्पादित किया।

सफतला के लिए खुद ही फील्ड वर्क किया –

अमृत ने गुणवत्ता, निगरानी और क्षेत्र के दौरे को बहुत महत्व दिया और खुद अमृत ने साढ़े तीन साल में 40,000 किमी से अधिक की यात्रा की। उन्होंने संगठन के लिए एक अत्याधुनिक इंजीनियरिंग लैब भी बनाई और सब कुछ कम्प्यूटरीकृत किया। उनकी पहल की बदौलत, जुलाई 2009 तक, BRPNN एक का कारोबार बढ़कर 768 करोड़ रुपये हो गया था।

पटना में बेसहारा लड़कियां को BRPNN ने अमृत के साथ मिल कर सपोर्ट किया –

बीएसआरडीसी न केवल कॉलेज तक इन लड़कियों की पूरी शिक्षा लागत वहन करता है , बल्कि उन्हें काम शुरू करने में मदद करने के लिए नौकरी-उन्मुख प्रशिक्षण भी प्रदान करेगा। अब, इन लड़कियों के बैंक खातों में BSRDC जमा होने वाले मासिक वजीफे के अलावा, संगठन ने लड़कियों के पक्ष में फिक्स्ड डिपॉजिट के रूप में प्रत्येक को 50,000 रुपये भी दिए हैं। निगम के मुनाफे से लिया गया पैसा 18 साल की उम्र के बाद लड़कियों को दिया जाता है।