बिहारी मिठाइयों का जिक्र हो और उसमे मनेर के लड्डू ( Manner’s Laddu ) का जिक्र न हो ये बात हजम नहीं होती | बिहार के तहजीब एवं विरासत में एक नाम मनेर के लड्डू का भी आता है | आज भी यहाँ लड्डू बनाने के लिए शुद्धता का पुरी तरह से ख्याल रखा जाता है, और यही एक मात्र कारण है की  सौकड़ों वर्ष बाद भी इसके स्वाद में कोई कमी नहीं आई है बल्कि इसके स्वाद के दीवानों की पुरी दुनिया में एक फ़ौज खड़ी हो गई है | ये बात अलग है की किसी अन्य लड्डू की जगह यहाँ का लड्डू कुछ महंगा है, पर स्वाद के आगे कीमत मायने नहीं रखती |

इसे भी पढ़ें :- बिहार की लोक परंपरा का एक हिस्सा है – खाजा

 Manner's Laddu

पुरी दुनिया में मशहूर है ( Manner’s Laddu ) मनेर का लड्डू

मनेर का लड्डू ( Manner’s Laddu )  अपनी स्वाद, मिठास और देशी घी के सुगंध के कारण सभी मिठाइयों में अपनी खास और अलग पहचान बनाता है। पटना से करीब से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मनेर के लड्डू सिर्फ भारत और बिहार नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर हैं। देश के विभिन्न हिस्सों से लोग यहां से लड्डू खरीदकर दूसरे देशों में सौगात के रूप में भेजते हैं। अंग्रेजों ने मनेर के लड्डू का स्वाद चखकर इसे वर्ल्ड फेम लड्डू का करार देकर प्रमाणपत्र दिया था। मनेर स्वीट्स में आमिर खान जैसे कई बड़े अभिनेता लड्डू का स्वाद चखने आ चुके हैं।

 Manner's Laddu

पटना से तीस किलोमीटर की दुरी पर है मनेर

बिहार Bihar की राजधानी पटना से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मनेरशरीफ कस्बे का लड्डू स्थानीय लोगों की आवाजाही के साथ अपने देश में ही नहीं दुनिया के दूसरे शहरों में भी पहुंच बना चुका है। भारत में लड्डू का मकबूलियत इसलिए भी ज्यादा बढ़ जाती है क्योंकि इसका प्रयोग पूजा-अनुष्ठानों में अधिक होता है। घर में किसी तरह का शुभ कार्य हो वो लड्डू के बिना संपूर्ण नहीं होता है। इसलिए यहाँ के लड्डू दुकानों पर खास कर मंगलवार के दिन खासी भीड़ जुटती है | समय के साथ महंगाई को देखते हुए इसकी कीमत में वृद्धि होते रहती है। घी से बने लड्डू की कीमत 540 रुपये प्रति किलो और रिफाइन तेल में बने लड्डू की कीमत 340 रुपये प्रति किलो है।

niraj kumar