विश्वव्यापी कोरोना संकट को लेकर देश में केंद्र सरकार द्वारा चौथे चरण के लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया गया है ! अगर बिहार की राजधानी पटना की बात करें तो जिला प्रशासन ने भी चौथे चरण के लॉकडाउन को लेकर दिशानिर्देश जारी कर दिए हैं, साथ हीं लॉकडाउन के सख्ती से पालन की हिदायत भी दी गयी है| नयी गाइडलाइंस के अनुसार लॉकडाउन के चौथे फेज में कई सेवाओं को जारी रखने की हिदायत दी गयी है, जबकि, कई पाबंदियां पहले की तरह ही रहेंगी | इसके मुताबिक, राज्य में कोरोना वायरस की वजह से घोषित कंटेनमेंट जोन और रेड जोन को छोड़कर सभी स्थान पर सभी प्रकार के उपभोक्ता वस्तुओं (कपड़ा की दुकान, रेडिमेड वस्त्र की दुकान समेत) की दुकान को नियंत्रित कर खोलने का निर्देश जारी किया है, ताकि वहां ज्यादा भीड़ ना लग सके। इसके अलावा ओला/उबर और अन्य टैक्सी सेवा देने वालों को भी राहत दी गयी है।

छूट पर अंतिम फैसला लेंगे जिला के डीएम

लॉकडाउन-4 में बिहार सरकार द्वारा दी गयी उपभोक्ता वस्तुओं के दुकान खोलने की छूट पर अंतिम फैसला जिला के डीएम लेंगे। जारी निर्देश में कहा गया है कि किसी एक स्थान पर स्थित अनेक दुकानों को बारी-बारी से सप्ताह के अलग-अलग दिन या समय पर खोलने का आदेश संबधित जिला पदाधिकारी करेंगे। दुकान में आने वाले ग्राहकों को मास्क लगाना, सैनिटाइज करना अनिवार्य होगा। इसके अलावा खरीददारी करने वाले ग्राहक अपने आवासीय क्षेत्र के नजदीक की दुकानों में ही खरीददारी कर सकेंगे। ग्राहकों को दूर और दूसरे क्षेत्र में खरीददारी करने जाने की इजाजत नहीं होगी।

परिवहन विभाग तय करेगा रिक्शा, ऑटो का परिचालन

गृह विभाग से जारी निर्देश में ओला/उबर के साथ अन्य टैक्सी को सिर्फ चिकित्सीय सेवा और विशेष ट्रेन से आने वाले यात्रियों को रेलवे स्टेशन से लाने और छोड़ने की अनुमति होगी। इसके अलावा रिक्शा, ऑटो के परिचालन के लिए परिवहन विभाग अलग से आदेश जारी करेगा। लेकिन किराये की बसों का परिचालन जिला के अंदर या बाहर पूरी तरह से बंद रहेगा और निजी गाड़ी और व्यक्तियों को भी जिला के बाहर का परिचालन प्रतिबंधित रहेगा। सरकारी कार्यालय में सभी वरीय अधिकारी, उपसचिव या उनके समकक्ष के अधिकारी आएंगे, लेकिन उनसे कनीय अधिकारी और कर्चारियों की उपस्थिति 33 फीसद ही रहेगी।

रेड जोन होंगे तय

गृह विभाग की ओर से कहा गया है कि राज्य के बाहर खासकर दूसरे राज्यों के रेड जोन से आने वाले प्रवासी मजदूरों को प्रखंड स्तरीय क्वारंटीन सेंटर में रखा जा रहा है। इसलिए जिला मुख्यालय को छोड़कर सभी प्रखंड मुख्यालय रेड जोन के रूप में चिन्हित किए और घोषित किए जाएंगे। प्रखंड मुख्यालय के रेड जोन में सिर्फ उन्हीं दुकानों को खोलने की इजाजत होगी, जिसका निर्धारण 6 मई को गृह विभाग ने किया था।

लॉकडाउन 4 में राज्य ही तय करेंगे कि उनके यहां कौन जिला रेड, आरेंज, ग्रीन और कंटेनमेंट जोन होगा। रेड जोन के बाहर किसी को जाने की इजाजत नहीं होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यह पहले ही बता चुके थे कि लॉकडाउन-4 इसके पहले लागू हुए तीन लॉकडाउन से अलग होगा।