जिस तरह की त्रासदी से हमारा देश गुजर रहा है इसमें आज हर कोई अपनी जिंदगी बचाने की जद्दोजहद कर रहा है इसमें सरकार तो अपने हिसाब से गरीबों की मदद कर हीं रही है पर सबसे ठोस कार्य कर रहे हैं हमारे समाज सेवक | सरकार को गरीबों की मूलभुत समस्याओं के बारे में भले समुचित जानकारी न रहती हो पर हमारे समाजसेवको की पहुँच समाज के हर तबके के पास होती है और उनकी समस्याओं का निवारण भी वे बखूबी करते हैं | इन्ही समाजसेवकों में एक नाम बिहार मधुबनी के हरलाखी प्रखंड के गंगौर गांव की रहने वाली बिट्टू मिश्रा का भी आता है जो आज की विकट परिस्थिति में अलग तरीके से लोगों की मदद कर रही हैं….

संस्था जागरूकता अभियान गंगौर के माध्यम से करती हैं लोगों की मदद

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ तर्ज पर संचालित जागरूकता अभियान संस्था हरलाखी मधुबनी के द्वारा लगातार कोरोना वायरस से बचाव के लिए विभिन्न विभिन्न कार्यक्रम लॉक डाउन के समय से किया जा रहा है, संस्था की संचालिका बिट्टू कुमारी मिश्रा का कहना है कि हम लोग लॉक डाउन के समय से ही अपने टीम के माध्यम से लोगों को जागरूक कर, मास्क साबुन वितरण एवं राशन सामान वितरण कर रहे हैं | इससे पहले भी आज बिट्टू मिश्रा अपने सेनेटरी नैपकिन और शिक्षा जागरूकता अभियान के कारण स्लम बस्तियों में खासी चर्चित हो चुकी है

बच्चों व् महिलाओं को कर रही हैं भरपूर मदद

देश में जारी इस लॉकडाउन के दौरान जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं वो हैं बच्चे और महिलाएं  | इस बात को ध्यान में रखते हुए मधुबनी की बेटी बिट्टू कुमारी मिश्रा अपनी संस्था और टीम की मदद से गरीब बच्चों के बीच कॉपी किताब ब्रश टूथपेस्ट एवं महिलाओं को सेनेटरी पैड दवाई वितरण कर रहे हैं | इन लोगों का   का एक ही मकसद है की इस संक्रमण को हम हरा दे। अपने सकारात्मक प्रयासों से और इसीलिए हम लोग विभिन्न विभिन्न तरीकों के कार्य कर रहे हैं ।जिसके माध्यम से समाज को सुविधा पहुंच रही है एवं जरूरतमंद लोग तक राशन , दवा सेनेटरी पैड ,पठन-पाठन सामग्री एवं जरूरी योग्य सामान पहुंच रही है।  हइस पूरे कार्य में संस्था की सहयोगी अमिशा कुमारी एवं श्वेता कुमारी भरपूर मदद कर रही है। गंगौर कृष्ण इंडिया निधि लिमिटेड के चेयरमैन कृष्ण कुमार भी आर्थिक रूप से संस्था को मदद कर रहे हैं।

विरासत में मिली है समाजसेवा की भावना

बिट्टू ने साबित कर दिखाया है की समाज सेवा करने के लिए धन की नहीं बल्कि मन की जरुरत होती है | आपको बता दे की बिट्टू कुमारी मिश्रा को यह भावना अपने पिता जी से मिली है जो गांव में हीं एक स्कुल चलाते हैं | साथ हीं बिट्टू का मानना है की आप सरकार पर भरोसा करने के वजाय खुद पर करें और अपने आस-पास नजर दौड़ाएंगे तो कोई-न-कोई मिल हीं जायेगा जिसे आपकी मदद की जरुरत हो, उसे अनदेखा न करें जितना संभव हो सके मदद करें