Bhojpur Duck Farming

ये सच है कि अधिकतर लोग नौकरी करके ही अपनी जीविका चलाते हैं, पर आज परिस्थितियां काफी बदल गई है अब कमाई बढ़ाने के लिए लोग नौकरी के साथ-साथ पार्ट टाइम बिजनेस पर भी जोर दे रहे हैं | आज हम बात भी करेंगे एक ऐसे बिजनेस की जिसे चाहे तो हर कोई कर सकता है | बिहार के भोजपुर जिला के गरहनी के रहने वाले विमल कुमार सिंह ऐसे ही एक उदाहरण हैं जिन्होंने नौकरी साथ बतख पालन  शुरू किया (Started Duck Farming ) और जब कमाई ज्यादा होने लगी तो नौकरी छोड़ कर आज फूल टाइम बतख पालन (Full Time Duck Farming)कर रहे हैं अब विमल कुमार सिंह (Vimal Kumar Singh ) बतख पालन ( Duck Farming ) से सालाना पांच लाख रुपए कमा रहे हैं। आइए जानते हैं इनके सफर के बारे में…

Garhani Duck Farming

बी टेक इंजिनियर B-Tech Engineer थे विमल कुमार सिंह

आरा गरहनी (Aara Garhani ) के छोटे से गांव के रहने वाले विमल कुमार सिंह एक टेलिकॉम कंपनी में बतौर इंजीनियर काम करते थे साथ हीं उन्होंने बतख पालन ( Duck Farming) की भी नीव डाल दी थी | और एक समय ऐसा आया की उनकी प बतख़ पालन ( Duck Farming ) से होने वाली कमाई उनके सैलरी से दुगनी थी तब उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे कर फूल टाइम बतख पालन (Full Time Duck Farming) करे लगे |

सात कट्ठे का बतख फार्म है इनका

विमल जी का गरहनी वाला बतख फार्म ( Duck Farming Bhojpur Garhani ) सात कट्ठे में फैला हुआ है जिसमे उन्होंने 1000 बतख पाल रखे हैं जिसमे आठ सौ फीमेल बतख (Female Duck )और दो सौ मेल बतख ( Male Duck ) है जिससे उन्हें रोजाना सात से आठ सौ अंडे प्राप्त होते हैं जिसे वे अपने हैचरी में भेज देते हैं जिससे चूजे प्राप्त होते हैं | आपको बता दे की बतख पालन (Duck Farming ) करने के कुछ समय के बाद इन्होने खुद का हैचरी भी खोला जो भोजपुर जिले का सबसे बड़ा हैचरी (Largest Hatchery Of Bhojpur District)है जिसकी क्षमता प्रति सप्ताह 40000 चूजे की है |

खाकी कैम्पवेल प्रजाति की करते हैं फार्मिंग

विमल जी बतख की सबसे ज्यादा अंडे देने वाली प्रजाति (High Yielding Species )खाकी कैम्पवेल की फार्मिंग (Khaki Campbell Ducks Farming ) करते हैं | बतख की खाकी कैम्पवेल (Khaki Campbell Ducks ) प्रजाति के एक बतख से उन्हें सालाना 300 अंडे प्राप्त हो जाते है और खाकी कैम्पवेल प्रजाति (Khaki Campbell Ducks)की आयु तीन वर्षों तक होती है उसके बाद बतख को मांस के लिए बेच देते हैं

जरुरी नहीं है  नर बतख ( Male Duck ) रखना

विमल जी बताते हैं की अगर आपको सिर्फ खाने वाले अंडे का उत्पादन करना है तो आप सिर्फ मादा बतख (Female Duck )  को हीं पाले और रही बात बतख के अंडे की मार्केटिंग ( Duck Egg Marketing )की तो ये आसानी से हर जगह बिक जाता है और काफी अच्छा रेट भी इसका मिलता है |

इसके अलावा भी आप बतख पालन के सम्बन्ध में बहुत कुछ सीखेंगे इस वीडियो में :- 

नौकरी छोड़ BHOJPUR JILA के विमल ने DUCK FARMING को करियर बनाया और अब उन्होंने दिया 15 लोगों को नौकरी

बतख का टीकाकरण ( Duck Vaccination )

बतख को सिर्फ दो ठीके लगाने होते है जो है डक कॉलरा (Duck Cholera Vaccine)और डक प्लेग (Duck Plague Vaccine) | बतख को इन दो Duck Vaccination Duck Cholera Vaccine वैक्सीन के बाद और कोई वैक्सीन देने की जरूरत नहीं होती है एक बात और ये है की अगर आप बतख पालन की शुरुवात (Start To Duck Farming ) करना चाहते हैं तो बतख के बच्चों का शुरुवाती समय में खास ख्याल रखे क्योंकि बतख में जो भी मोटलिटी होती है वो ब्रूडिंग के दौरान हीं होती है उसके बाद बतख की मृत्यु की सम्भावना काफी कम होती है |

इसके अलावा भी आप बतख पालन के सम्बन्ध में बहुत कुछ सीखेंगे इस वीडियो में :-

Niraj Kumar
Latest posts by Niraj Kumar (see all)