Goat Farming Patnaआज से ठीक 50 वर्ष पहले की बात करें तो लोग नौकरी के पीछे नहीं भागते थे उस समय लोग कहते थे नौकरी ना करी | और आज नौकरी मिलना कितना मुश्किल हैए बात जग जाहिर है और यही वजह है की आज युवाओं का रुझान स्वरोजगार की तरफ बढ़ा है, और बकरी पालन ( Goat Farming ) एक बढ़िया स्वरोजगार ( Self Employment ) है ये हर कोई जानता है | आज हम बात करेंगे एक ऐसे व्यक्ति की जो पेशे से मैकेनिकल इंजिनियर ( Mechanical Engineer ) थे और अपनी नौकरी के दौरान बीस वर्ष विदेश में रहे और जब स्वदेश आएं तो किसी के यहाँ नौकरी न कर के स्वरोजगार को चुना और पिछले एक वर्षों से बकरी पालन (Goat Farming ) एवं मछली पालन (Fish Farming ) कर रहे हैं |

Goat Farming  Self Employment

 सैयद वासी अहमद बुलंद हौसले के साथ कर रहे हैं बकरी पालन

सैयद वासी अहमद भले  बकरी पालन (Goat Farming ) में नए हैं और उनके पास बकरियां Goats भी कम है पर जो भी किये सिस्टम से व्यवस्थित ढंग से किये | अभी इनके पास कुल 18 बकरियां है जो तोता पारी नस्ल (Totapari Goat Breeds )की जमनापारी नस्ल (Jamnapari Goat Breeds)  की और ब्लैक बंगाल नस्ल (Black Bangal Goat Breeds )की है और एक गोट ब्रीडर (Goat Breeder ) है जो कोटा नस्ल (Kota Goat Breeds )का है और दो वर्ष का है  | अभी ये जो उनका बकरी फार्म (Goat Farm) है वो लगभग डेढ़ कट्ठे का है

विदेश से लौटे मेकैनिकल इंजिनियर ने GOAT FARMING को बनाया स्वरोजगार ताकि और लोगों को भी रोजगार दे सके

उमेश सर के शिष्य रह चुके हैं

ये तो तय है की बिना किसी जानकारी के नए बिजनेस में हाथ डालना मूर्खता है और इस बात से सैयद वासी अहमद  भली भांति परिचित थे इसलिए इन्होने बकरी पालन करने की सोंची तो सबसे पहले बकरी पालन की ट्रेनिंग करने का ख्याल आया और ये सही भी था क्योकि सैयद वासी अहमद जी के लिए ये बिजनेस बिल्कुल नया था तब उन्होंने गोट फार्मिंग के बड़े ट्रेनर उमेश सर से ट्रेनिंग ली | जिससे उनको बकरी पालन करने में काफी सहूलियत मिली |

GOAT FARMING शुरू करने से पहले अगर इन खास पाँच बातों का ख्याल रहा तो BAKRI PALAN में होगी मोटी कमाई

 

लीज पर जमीं लेकर करते हैं मछली पालन

पेशे से इंजिनियररहे सैयद वासी अहमद जी बकरी पालन तो करते हीं हैं साथ में पटना एम्स के करीब जानीपुर में दो एकड़ जमीन लीज पर लेकर मछली पालन  भी करते हैं | अभी सैयद वासी अहमद जी अपने तालाब में रोहू कतला एवं पंगास की फार्मिंग कर रहे हैं

आगे की योजना

इनकी आगे की योजना इसमें देशी मुर्गी  ( Dashi Murgi Farming )को बकरी के साथ पालने की है और मछली के साथ बतख पालन करने की है ताकी रोज का खर्च निकल सके

इसके अलावा सैयद वासी अहमद वैसे युवा जो बकरी पालन (Goat Farming ) मछली पालन करना चाहते हैं उनको बेहतर मार्ग दर्शन भी देते हैं  ताकि लोगों का नजरिया बदल सके | Syed Wasi Ahmad

Khjoor Banna(Old) Near Devisthan, Rajendra Petrol Pump,

Pather Ki Masjeed Patna 800006

Mobile Number :- 7481920850