कुछ करने का अगर जूनून हो तो उम्र कभी बाधा नहीं बनती। आप किस उम्र के हैं इससे कोई फर्क नहीं पड़ता ,फर्क पड़ता है तो केवल इस बात से की आप कितना कुछ करना चाहते हैं। परिस्थितियां कितनी भी विपरीत क्यों न हो कुछ लोग उसमे अपना रास्ता निकाल ही लेते हैं और ऐसे लोग ही औरों की भी प्रेरणा बनते हैं आगे बढ़ने के लिए। पटना के रहने वाले युवा छात्र निशांत इसके सबसे सही उदाहरण हैं। ये मुंबई के कॉलेज से बी टेक कर रहे थे पर लॉकडाउन के वजह से इन्हे घर लौटना पड़ा और तब इन्होने सोचा की इस वक़्त का सही उपयोग किया जाए और अपने साथ साथ और लोगों को भी रोजगार का साधन उपलब्ध  करवाया जाये। उन्होंने अपना  सारा ध्यान और समय मशीन मैन्युफैक्चरिंग में लगाया और इसका नतीजा है की आज केवल 22 साल के उम्र में उनका एक खुद का मशीन मैन्युफैक्चरिंग उद्योग है जिसका नाम Styam machinery है जो पाटलिपुत्रा में है। यहाँ से ये जरुरत मंदों को न सिर्फ मैन्युफैक्चरिंग रेट पर मशीनें बेचते हैं और साथ ही जो इस व्यवसाय में नए हैं उनको सीखने में मदद भी करते हैं। इनके पास छोटे उद्योग की लगभग सारी मशीनें उपलब्ध हैं जैसे प्लेट मेकिंग मशीन(Paper plate making machine), स्लीपर मेकिंग मशीन (Sleeper making machine)  ,स्क्रबर पैकिंग मशीन(Scrubber packing machine) ,अगरबत्ती मेकिंग मशीन(Agarbatti making machine), केम्फर मेकिंग मशीन(Camphor making machine) आदि।

स्क्रबर पैकिंग मशीन(Scrubber Packing Machine)

स्क्रबर(Scrubber) रोजाना के कामों में आने वाला उत्पाद है , इसकी डिमांड मार्किट में सालों भर बनी रहती है। इसका उत्पादन रोजगार के शुरुआत के लिए एक अच्छा विकल्प है। स्क्रबर पैकिंग बिजनेस(Scrubber packing business) शुरू करने के लिए आटोमेटिक मशीन(Automatic machine) बहुत ही अच्छा चुनाव है क्यूंकि इसे आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। कोई भी आसानी से इसे ऑपरेट कर सकता है।

Satya machinaries

यह भी पढ़ें : बिहारी युवा का का लोकप्रिय स्टार्टअप

पेपर प्लेट मेकिंग मशीन(Paper plate making machine)से मुनाफा कैसे करें। 

थर्मोकोल के बैन होने के बाद से मार्किट में पेपर प्लेट्स(Paper plates) की डिमांड काफी बढ़ गयी है। चाहे शादी हो, पार्टी हो या किसी तरह की पूजा हर जगह इसकी उपयोगिता है। लॉक डाउन में पेपर प्लेट व्यवसाय काफी ज्यादा ऊपर आया है। इसको बहुत छोटे से स्तर से शुरू किया जा सकता है और अगर मार्किट में अच्छी पकड़ हो तो इससे अच्छी कमाई भी हो सकती है। इसमें दो तरह की मशीनें होती हैं। एक सिंगल डाई पेपर प्लेट मेकिंग मशीन(Single dye paper plate making machine) और दूसरा डबल डाई पेपर प्लेट मेकिंग मशीन(Double dye paper plate making machine)।  अगर आप को समय की बचत करनी है  और कम समय में ज्यादा उत्पादन करना है तो तो हाइड्रोलिक पेपर प्लेट मेकिंग मशीन(Hydrolic paper plate making machine) का इस्तेमाल कर सकते हैं।

                          WATCH VIDEO

अगरबत्ती मेकिंग मशीन(Agarbatti making machine) :

लोगों में धार्मिक आस्था बहुत ज्यादा होने के कारण हमारे यहाँ अगरबती भी बहुत अच्छा व्यवसाय माना जाता है।  सालों भर इसकी खपत रहती है इसलिए इसकी डिमांड भी सालों भर रहती है। इसको छोटे या बड़े स्तर पर भी शुरू किया जा सकता है  मशीनों की सहायता से। यह एक बहुत ही अच्छा छोटा उद्योग है।

स्लीपर मेकिंग मशीन(Sleeper making machine) :

(Sleeper) चप्पल हमारे रोजमर्रा की ज़िंदगी के लिए बहुत उपयोगी उत्पाद है। जैसे हमारे लिए कपडे जरुरी हैं वैसे ही चप्पल भी हमारे लिए बेहद आवश्यक है। ऐसे में Sleeper manufacturing एक अच्छा व्यवसाय है। इसके शुरुआत में कम से कम 100,000 की लागत लगती है साथ ही इसके शुरुआत के लिए लीगल फॉर्मलिटीज भी करनी पड़ती हैं। इसमें बहुत तरह के मशीनों का उपयोग होता है।

केम्फर मेकिंग मशीन(Camphor making machine) :

Camphor making business उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जो बिलकुल कम लागत में शुरुआत करना चाहते। हैं कपूर सालों भर बाइक वाला उत्पाद है और इसकी अच्छी डिमांड भी है। इसके लिए केम्फर मेकिंग मशीन(Camphor making machine) बहुत जरुरी है। एक घंटे में इसकी 8 किलो तक की प्रोडक्शन है। Camphor making machine से डाई चेंज कर के फिनाइल , हाजमोला एवं आयुर्वेदिक दवाओं की गोटियां भी बना सकते हैं। मतलब एक तीर से कई निशाने।

Small Business में मार्केटिंग के तरीके :

(Small business) छोटे व्यवसायों में मार्केटिंग की बहुत ज्यादा उपयोगिता है। इसमें 3 तरह की मार्केटिंग होती है होलसेलर से शॉपकीपर के पास जाता है और वहां से रिटेलर के पास जाता है। इस पुरे प्रक्रिया में उत्पादक को इतना लाभ नहीं होता। ऐसे में अगर एक मैन्युफैक्चरर सीधे रिटेलर से सम्पर्क करेगा तो उसे ज्यादा से ज्यादा फायदा होगा इसलिए सही फायदा कमाने के लिए रिटेलर से शुरुआत करें।

प्रॉफिट मार्जिन क्या है ?

आमतौर पर लोग  ये कहते हैं की महीने में  60 से 70,000 तक की कमाई कर सकते हैं मगर ऐसा नहीं है शुरुआत में 30 से 40 000 तक की कमाई कर सकते हैं और आगे  और मेहनत करने पर और ज्यादा इनकम भी संभव है। ये पूर्णतः मेहनत और मार्केटिंग पर निर्भर करता है।

लॉकडाउन के दौरान लोगों को दिक्क्तें हुईं फैक्ट्रियां बंद होने के बाद आर्थिक रुप से तंग हो गए लोगों के लिए ये अच्छा विकल्प है। इसमें आपको किसी के सहारे बैठने की जरुरत नहीं है। आप कहीं भी अपने गाँव या घर में काम शुरू कर सकते हैं और अच्छे पैसे कमा सकते हैं।