Archives for Articles

Articles

हिंदी दिवस विशेष :- बिहार के लेखक जिन्होंने हिंदी साहित्य को एक नई ऊँचाई प्रदान करवाई पौराणिक काल मे महर्षि वाल्मीकि जी ने ही बिहार की धरती पर रामायण रची थी तो मध्यकाल में कालिदास ने ही बिहार की धरती से सम्पूर्ण विश्व मे नाम कमाया था ; ऐसे कई नाम है जिनके साहित्य के कार्यो के बदौलत बिहार के नाम पूरी दुनिया भर में प्रसिद्ध है

दिनांक - 14-09-19 को हमारी मातृभाषा हिंदी का दिवस है ; हिंदी संस्कृत भाषा का एक प्रयोजित रूप है ; हिंदुस्तान में भाषा का आदान-प्रदान मूलरूप से इसी भाषा के…
Continue Reading
Articles

चौड़ी बिंदी , साड़ी और चेहरे पर मुस्कान वाली सुषमा स्वराज Sushma Swaraj हमारे बीच अब नही रही :- सुषमा स्वराज ने अपने अंतिम ट्वीट में लिखा था, ''प्रधानमंत्री जी, आपका हार्दिक अभिनन्दन. मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी.''

भारत की पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज Sushma Swaraj का निधन हो गया है. उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया…
Continue Reading
Articles

सिख आस्थाओं से जुड़ा पटना का एक पौराणिक स्थल श्री हरमंदिर जी सिखों के दसवें गुरु गोबिंद सिंह की जन्म भूमि है श्री पटना साहिब

पटना का एक ऐतिहासिक दर्शनीय स्थल जिसका नाम तख़्त श्री पटना साहिब या ( Sri Harmandir Jee ) श्री हरमंदिर जी है जो पटना साहिब पटना शहर में स्थित सिख…
Continue Reading
Articles

बिहार की वार्षिक पीड़ा :- “बाढ़” (Flood) एक स्थिति बाढ़ के कारण बिहार और असम में 1.06 करोड़ लोग प्रभावित हुए, बिहार में बाढ़ और बारिश की वजह से अब तक 127 की मौत

बिहार है तो देश का एक राज्य ही परन्तु बिहार पूरे देश मे बसता है , देश के कोने - कोने में बिहार की परछाई कही ना कही देखने को…
Continue Reading
Articles

बिहार की समृद्ध विरासतों में से एक है ( Patna Museum) पटना म्यूजियम एक छत के नीचे बिहार की समृद्ध विरासत की झलक मिलती है पटना म्यूजियम में

वर्तमान के बारे में यदि जानना है तो इतिहास के पन्नों में पलटना  होगा और  खासकर बिहार के इतिहास के बारे में जानकारी लेनी है तो पटना म्यूजियम ( Patna…
Continue Reading
Articles

90 प्रतिशत शरीर का हिस्सा काम नही करता , फिर भी देते के गरीब बच्चों को ( Free Education ) मुफ्त शिक्षा पोलियो के चलते शरीर का 90 प्रतिशत हिस्सा काम नही करता इसके बावजूद शंकर ने एक समाजसेवी , शिक्षाविद , मोटिवेशनल स्पीकर एवं RTI एक्टिविस्ट की भूमिका निभाई ;

विकलांगता , लाचारी , शारीरिक पीड़ा ये तीन अहम तत्व इंसान को उसके जज़्बे से एवं उसके मक़सद से उसे दूर ले जाता है ; परंतु जो इंसान इस तीनों…
Continue Reading
Articles

‘बिहारी’ भाषा'(Bihari language) शब्दावली का यह अनूठा समूह जो हमेशा के लिए हर बिहारी वासियों के  साथ रहता है,चाहे वो किसी भी बड़े महानगर में क्यों न रह रहे हों | 'बिहारी भाषा' विशिष्ट लहजे में बोली जाने वाली शब्दों की एक विशिष्ट पसंद है| जिससे लोगों के बीच आपस मे प्यार और सम्मान झलकता है |

बिहार पूर्वी भारत मे बसा हुआ एक छोटा सा राज्य है  जो नेपाल की सीमा पे स्थित है। यह गंगा नदी द्वारा विभाजित है|यहाँ बहुत सारे तीर्थ स्थल है जिसमे …
Continue Reading
Articles

साहित्यिक स्रोत प्रदान करने वाले बिहार राज्य के मशहूर पुस्तकालय जो अभी भी है बरकरार| इतिहास में एक विशेष स्थान रखने वाले पटना शहर के कुछ प्रसिद्ध पुस्तकालय सिन्हा लाइब्रेरी, खुदा बख्श लाइब्रेरी, और एनआईटी पटना के केंद्रीय पुस्तकालय |

किसी ने सच ही कहा है  लोग खुद को एक पुस्तकालय में खोजते हैं।क्युकी उनके विचारों की उत्पत्ति का एक जगह है,जिसका नाम पुस्तकालय है |  एक ऐसा स्थान जो…
Continue Reading
Articles

छात्रों के संघर्ष का अद्धभुत मिश्रण है TVF की “कोटा फैक्ट्री” , बिहार के रंजन राज कर चुके है इसमें काम ; टी०वी०एफ (TVF ; The Viral Fever Production) के द्वारा निकली गयी है जिसका शीर्षक "कोटा फैक्ट्री" है , वह आजकल बेहद लोकप्रिय हो रहा है ख़ासकर वेसे युवा छात्रों के लिए जोकि अपने घर से दूर रहकर बाहर शहर में इंजीनियरिंग अथवा कम्पटीशन जैसी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे है

आज के जमाने मे युवा वेब-सीरीज़ की कड़ी में बेहद रुचि रखते है एवं युवाओं के बीच वेब-सीरीज काफी लोकप्रिय भी हो रही है , कारण भी है वेब-सीरीज में…
Continue Reading
Articles

बिहार-उत्तरप्रदेश की सीमा पर बसा हुआ एशिया का सबसे बड़ा गांव “गहमर” जो सैन्य छावनी के नाम से भी जाना जाता है | इस गाँव के करीब दस हज़ार फौजी इस समय भारतीय सेना में जवान से लेकर कर्नल तक विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं, जबकि पाँच हज़ार से अधिक भूतपूर्व सैनिक हैं ।

गहमर एक ऐसा गांव जो बिहार-उत्तरप्रदेश की सीमा पर बसा हुआ है ,जो आज वीर सिपाहियों गढ़ से प्रसिद्ध है | इस गांव की ख्याति महज देश तक ही सीमित…
Continue Reading