Archives for Doing The Different

Bihar

अन्धविश्वास के खिलाफ जंग लड़ता बिहार के मधुबनी जिले का एक युवा : मंटू कुमार 'सक्सेस साईंस फॉर सोसाईटी ' संस्था के जरिए भारत के कोने - कोने में चला रहे जागरूकता अभियान

अंधविश्वास कहे या गंद्विश्वास पर ये ऐसी बीमारी है जिससे हर तीसरा व्यक्ति ग्रसित है चाहे वो पढ़ा लिखा हो या अनपढ़  इस बीमारी के कारण बहुत से लोग अपनी जान…
Continue Reading
Doing The Different

50 वर्षीय अमर सिंह जो बीस वर्षों से बचा रहे हैं लोगों की जिंदगी अपनी स्वेच्छा से 73 बार रक्तदान करने वाले अमर सिंह राजस्थान, हरियाणा और पंजाब में 330 रक्त दान शिविरों का आयोजन भी करा चुके हैं

  एक अनपढ़ और देहाड़ी मजदूरी करने वाला पचास वर्षीय मजदुर जिसके कदम पिछले बीस वर्षों से जिंदगियां बचाने के जुनून में कभी नहीं ठिठके | 50 वर्षीय अमर सिंह बेशक एक अनपढ़ देहाड़ी मजदूर हैं…
Continue Reading
Doing The Different

दो सौ दिव्यांग बच्चों की जिंदगी संवार रही है ‘सविता सिंह’ अब ये दिव्यांग बच्चे ही सविता की जिंदगी हैं, सविता जीती हैं तो बस इन बच्चों के लिए

कौन कहता है कि सफलता सिर्फ उन्हीं के कदम चुमती है जो शारीरिक रुप से मजबूत व स्वस्थ होते हैं? सच तो यह है कि सफलता उस वृक्ष के समान…
Continue Reading
Doing The Different

पौधा वाले गुरूजी ‘राजेश कुमार सुमन’ का शौक नहीं उनके दीवानगी का दूसरा नाम  है “सेल्फी विद् ट्री” पेड़-पौधे से धरती संवारने की कसम खाई है समस्तीपुर के इस युवा ने और सिर्फ अब तक हज़ारों पेड़ लगाया ही नहीं बल्कि तोहफे में भी देते है

जहाँ हरियाली, वहां खुशहाली को आधार मानकर समस्तीपुर के युवा अपने अनोखे मुहीम “सेल्फी विद् ट्री” अभियान के माध्यम से धरती माँ का श्रृंगार कर रहे है | वृक्षरोपण  और…
Continue Reading
Doing The Different

पिछले पैंतीस वर्षों से गरीबों को महज एक रूपए में कराया जा रहा है भर पेट भोजन गरीबों को भोजन कराने का विचार आपातकाल के दौरान ही जन्मा था

पांच रुपए में अम्मा थाली और दीनदयाल रसोई के बारे में तो आपने खूब सुना होगा, लेकिन विदिशा मध्यप्रदेश में सार्वजनिक सेवा समिति भी 35 साल से गरीबों को एक…
Continue Reading
Doing The Different

‘वाक फॉर लाइफ’ के जरिए डायबिटीज मुक्त भारत बनाने के रास्ते पर है पुरुषोत्तम सिंह डायबिटीज जागरूकता के लिए कई शहरों और कस्बों में अब तक हज़ारों कैम्पेन कर चुकी है आस्था फाउंडेशन (Astha Foundation)

ईज्जत तो कड़वेपन की भी करनी होगी | मीठे से इश्क इतना भी न करों कि आप मीठे के ही शिकार हो जाये और वो हत्यारा दबे पाँव आपके घर…
Continue Reading
Doing The Different

लावारिश लाशों के मुक्ति दाता ‘जन सेवा दल’, अब तक 8000 लाशों को मुक्ति दे चुकी है जिन लावारिस लाशों को कोई छूता नहीं, उनका अंतिम संस्कार कर गंगा में प्रवाहित करते हैं फूल

कहते हैं जिनका कोई नहीं होता उनकी सहायता के लिए भी ईश्वर किसी न किसी को नियुक्त करता है | भिलाई शहर में 1980 से काम कर रही जन सेवा…
Continue Reading
Doing The Different

‘करन यादव’ जिन्हें दिव्यांगो का सहारा बनने के आगे रास नहीं आई विदेश की नौकरी करन खुद एक दिव्यांग हैं और दिव्यांगों की मदद के लिये हमेशा आगे रहते

दिव्यांगो को देखते हीं मन में दया का भाव उभड़ने लगता हैं, पर दिव्यांगों को सहानुभूति नहीं, सहयोग की जरूरत है | इनके भीतर छिपी प्रतिभा को निखारने का प्रयास…
Continue Reading
Doing The Different

गरीब का मुहँ तो भगवान के घर की दानपेटी होती है – साईं की रसोई , पटना साईं की रसोई ने पार किया अपना सौंवा पड़ाव इस अवसर पर लगभग 3000 लोगों ने मिटाई अपनी भूख

साईं की रसोई के पीछे सोच थी लोगों को कम से कम कीमत में घर का बना घर जैसा खाना खिलाया जाये ।  इस सपने को साकार किया  पटना की…
Continue Reading
Doing The Different

कैंसर रोगियों के मसीहा ‘डॉ स्वप्नील माने’ निः शुल्क करते हैं इलाज अबतक 1120 मरीजों को जानलेवा बीमारी कैंसर से मुक्ति दिला चुके हैं

दोस्तों अगर किसी गरीब को कैंसर हो जाये तो उसका बचना नामुमकिन हो जाता है, कारण वो गरीब व्यक्ति कैंसर के इलाज का खर्च वहन नहीं कर सकता | ऐसे…
Continue Reading