Archives for Heroic Stories - Page 4

Featured

जज़्बे और साहस का शौर्यगाथा लिख रही देश की पहली कॉम्बैट असिस्टेंट कमांडेंट ऑफिसर : तनुश्री पारेख 40 साल के बीएसएफ के इतिहास में पहली महिला असिस्टेंट कमांडेंट बनने वाली तनुश्री को गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी किया है सम्मानित

वैसे तो यह हर कोई जानता है की भारत की महिलाएं चुनौती वाले क्षेत्रों में भी बढ़चढ़ कर न केवल हिस्सा ले रही हैं, बल्कि पुरुष वर्चस्व को भी चुनौती…
Continue Reading
Dynamic Youths

जज्बे के दम से अपने सपने को साकार किया और बनी एशिया की पहली रेल डीजल इंजन चालक एशिया की पहली सफल डीजल इंजन चालक है ' मुमताज एम काजी ' और मुंबई की मोटर वुमेन भी

आज के बदलते हुए जीवन के इस नए दौर में हमें अपनी रूडिवादी सोच और बेधियूं से जकड़ी हुई सोच को भी बदलने की जरूरत है क्यूंकि विकास की ओर…
Continue Reading
Heroic Stories

रेलवे प्लेटफार्म पर कांता ने बिखेरी शिक्षा की रौशनी निहार कोना की बच्चियां पढाई के साथ मार्शल आर्ट,तैराकी, और नृत्य में भी पारंगत है |

इस दुनिया में दिलों की सुनने वाले अभी भी कुछ लोग बचे हैं, जो अंतरात्मा की आवाज़ को दबा नहीं पाते क्यूकि उन्हें पता है की आँखे फेर लेने से…
Continue Reading
Heroic Stories

भाजपा के राजेंद्र सिंह ने रचा इतिहास : 550 गाँव को जोड़कर बनाया 116 किलोमीटर लम्बा मानव श्रृंखला आरा से मोहनिया पथ के पुनर्निर्माण के घोषणा के बाद मानव श्रृंखला बनाकर सरकार को शाहाबाद की जनता से दिलवाया धन्यवाद

जीतने वाले कुछ अलग काम नहीं करते बल्कि अलग तरीके से करते है | राजनीती हो या काजनीति अनोखे कार्यशैली का परिचायक बनकर ही आप कसी शिखर को हासिल करने…
Continue Reading
Featured

हौसले ही फतह की बुनियाद हुआ करते है : कौन है ये अरुणिमा सिन्हा Arunima Sinha is the first female amputee to climb Mount Everest.

अपनी कमजोरी को ही ताकत बना लेना ऐसा मिशाल कोई अरुणिमा सिन्हा से ही सीख सकता है वो कहते है न की जब हमारे इरादे बुलन्द हो तो एवेरेस्ट सरीखा…
Continue Reading
Dynamic Youths

कोई जरूरी नहीं कि किस्मत हाथों की लकीरों में होती है : Story of Dhaval Khatri नसीब उनके भी होते है, जिनके हाथ नहीं होते - नामुमकिन कुछ भी नहीं !

“मत कर यकीन अपने हाथों की लकीरों पर…………. नसीब उनके भी होते है, जिनके हाथ नहीं होते|” ये कुछ शब्दों में लिपटा हुआ वाक्य और कुछ नहीं  किसी का आत्मविश्वास…
Continue Reading
Heroic Stories

रोजर बैनिस्टर का जुनून

वो दिन था 6 मई ,1954 और जगह थी इफ्ले रोड ट्रैक ,ऑक्सफोर्ड, इंगलैंड (Iffley Road, Oxford, England) . एक 25 साल का मेडिकल स्टुडेंट लगभग 3000 दर्शको के बिच कुछ ऐसा करने जा रहा था जो  मानव इतिहास में इससे  पहले कभी हुआ ही नहीं था. मनुष्य…
Continue Reading