Archives for Traditions & Culture

Articles

बिहार-उत्तरप्रदेश की सीमा पर बसा हुआ एशिया का सबसे बड़ा गांव “गहमर” जो सैन्य छावनी के नाम से भी जाना जाता है | इस गाँव के करीब दस हज़ार फौजी इस समय भारतीय सेना में जवान से लेकर कर्नल तक विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं, जबकि पाँच हज़ार से अधिक भूतपूर्व सैनिक हैं ।

गहमर एक ऐसा गांव जो बिहार-उत्तरप्रदेश की सीमा पर बसा हुआ है ,जो आज वीर सिपाहियों गढ़ से प्रसिद्ध है | इस गांव की ख्याति महज देश तक ही सीमित…
Continue Reading
Articles

लोकतंत्र का महापर्व ; जिसमें लोकतांत्रिक स्याही से मिलता है मतदान का प्रमाण :- 1.339 बिलियन आबादी वाले देश मे इस बार 2019 में कुल 900 मिलियन भारतीय 17वी० लोकसभा में मतदान करने हेतू पात्र है ।

विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र भारत मे स्थित है जोकि इस समय अपने पूरे प्रवाह में है । शब्‍द की हर दृष्‍टि से यह महापर्व है - अनूठे ड्रामा, दर्शक…
Continue Reading
Articles

अतीत के पन्ने पर दूरदर्शन का इतिहास जो कभी हुआ करता था कंपलीट इंटरटेनमेंट चैनल| आज के ज़माने में प्रसारित टीवी पर जो चैनल चलते है उनका आज़ादी से 90 के दशक तक तो कोई वजूद ही नहीं था , उस वक्त केवल एक सिद्धांत के वजूद के अनुसार टीवी चलता था जोकि था "दूरदर्शन" ।

आजकल के आधुनिकीकरण एवं विज्ञान - तकनीक ने जमाने को पूरी तरह से बदल दिया है । जिसका एक अद्भुत उदाहरण सूचना एवं मनोरंजन के छेत्र से ही मिलता है…
Continue Reading
Articles

जानें देश में कहां कैसे मनाते हैं होली का त्योहार देश के पूर्वी इलाकों और बिहार में होली को फाग उत्सतव के नाम से जाना जाता है। यहां कई स्थातनों पर कीचड़ से भी प्रख्या्त कुर्ता फाड़ होली खेली जाती है

हमारा देश विविधताओं से परिपूर्ण है और इसका सबसे बड़ा उदाहरण है होली का त्‍योहार जो देश के सभी राज्‍यों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है | वैसे तो होली…
Continue Reading
Featured

जानें किफायती और लोकप्रिय ‘मिठाई’ जलेबी का इतिहास

जलेबी (Popular 'Dessert' Jalebi) का नाम सुनते ही मुंह में पानी भर आता है, शायद हीं कोई इंसान होगा जो  गरमागरम जलेबी (Jalebi) देख इसे खाने को व्याकुल न उठा…
Continue Reading
Bihar

आज है पावन पर्व ‘तीज’ जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, व्रत कथा और महत्व् तीज व्रत बेहद कठिन माना जाता है, इस दिन महिलायें निर्जला रहकर गौरी-शंकर की आराधना की जाती है

हिन्‍दू धर्म को मानने वाली महिलाओं में तीज का विशेष महत्‍व है | इस दिन गौरी-शंकर की पूजा का विधान है | मान्‍यता है कि  इस व्रत को करने से…
Continue Reading
Articles

कहानी बिहिया के बहुचर्चित महथिन माई मंदिर की देवी सती शिरोमणि महथिन माई को लेकर श्रद्धालु महिलाओं की धारणा है कि इनकी आराधना से सुहाग सुरक्षित रहता है |

श्रद्धा और आस्था का प्रतीक महथिन माई का मंदिर आरा-बक्सर रेल मार्ग पर बिहिया स्टेशन से लगभग एक किलोमीटर पूरब रेल पटरी के किनारे स्थित है | सती शिरोमणि महथिन…
Continue Reading
Articles

‘खोइंछा ‘ आपन भोजपुरी संस्कृति

'खोइंछा ' आपन भोजपुरी संस्कृति में बहुत प्रचलित बा ... लइकी के बियाह भइला के बाद विदाई के समय या  बेटी जब नइहर से ससुरा अउर ससुरा से नइहर जाले…
Continue Reading