Tag archives for बिहार

Bihar Famous

दिल का रिश्ता है बिहारियों का लिट्टी-चोखा के साथ – ब्रांड बिहार की पहचान ठंढी के मौसम का बेहतरीन साथी है लिट्टी-चोखा, चाहे कितनी भी कड़ाके की ठंढ हो दो लिट्टी खाते-खाते कनपट्टी से पसीना चुना तय है |

बिहार (Bihar) के सबसे पसंदीदा व्यंजनों में से एक है (Litti) लिट्टी, जिसने बिहार से बाहर तो अपनी धाक जमा ही चुकी है इसके अलावा विदेशियों को भी अपने स्वाद…
Continue Reading
Bihar

राष्ट्रीय युवा गौरव सम्मान से नवाजे गए ‘सन्नी कुमार’ आज सूबे के युवाओं के प्रेरणाश्रोत है स्लम एरिया के 200 परिवारों के लिए सन्नी कुमार बने मसीहा, सन्नी के काम का है हर कोई कायल

हमारे देश में आज भी आबादी का एक बड़ा हिस्सा शिक्षा से वंचित है | संविधान के 86वें संशोधन विधेयक में 6 से 14 साल के सभी बच्चों को मुफ्त…
Continue Reading
Bihar

समाज के उत्थान के लिए समर्पित बिहार भोजपुर जिले के लाल ‘धनंजय कुमार सिंह’ धनंजय कुमार सिंह का मानना है कि समाज का विकास समाज के लोगों के द्वारा ही किया जा सकता है

प्रतिष्ठ टैली सॉफ्टवेयर में अधिकारी के रूप में काम करते हुए भी गरीब और असहाय लोगों के तकलीफों को दूर करने का हरसंभव प्रयास करते हैं  और जिनका मानना है…
Continue Reading
Doing The Different

पौधा वाले गुरूजी ‘राजेश कुमार सुमन’ का शौक नहीं उनके दीवानगी का दूसरा नाम  है “सेल्फी विद् ट्री” पेड़-पौधे से धरती संवारने की कसम खाई है समस्तीपुर के इस युवा ने और सिर्फ अब तक हज़ारों पेड़ लगाया ही नहीं बल्कि तोहफे में भी देते है

जहाँ हरियाली, वहां खुशहाली को आधार मानकर समस्तीपुर(Samastipur)) के युवा अपने अनोखे मुहीम “सेल्फी विद् ट्री” अभियान के माध्यम से धरती माँ का श्रृंगार कर रहे है | वृक्षरोपण  और…
Continue Reading
Event Story

मंगल पांडे ने बिहार छात्र संसद में कहा ‘नौजवान जिधर चलते हैं जमाना उधर ही चलता है ‘ 30 सितम्बर 18 को पटना के ज्ञान भवन में आयोजित छात्र संसद ने लिखी नई इबारत , युवाओं के हौसलों को लगा पंख

हफ़्तों से बिहारी युवाओं को उस मंच का इन्तजार था जिस मंच से उनके सवाल और हक़ के बारे पूछने की आज़ादी थी और आखिरकार वह सपना साकार हुआ |…
Continue Reading
Bihar

नहीं रहें बिहार सासाराम के कवि कुमार आज़ाद ‘डॉक्टर हाथी ’ बिहार के सासाराम के रहने वाले कवि कुमार बचपन से एक्टर बनना चाहते थे

‘दुनिया से जानेवाले, जाने चले जाते हैं कहाँ, कैसे ढूंढे कोई उनको, नहीं कदमों के भी निशां’ मित्रों जीवन गतिशील है वो किसी के लिए नहीं रूकती रोज हजारो लोग मृत्यु…
Continue Reading