Tag archives for लोकोपदेश प्रसंग

अन्दर का तीर्थ

एक बार बहुत सारे अमीर लोग अपने शहर से बहुत दूर अपने वाहनों के साथ तीर्थ यात्रा पर जा रहे थे. उसी जगह एक बहुत ही निर्धन और अपहिज व्यक्ति भी रहता था, जो उनलोगों के साथ…
Continue Reading

फर्श से अर्श तक

लोकोपदेशक प्रसंग  एक स्कॉटिश लड़का अमेरिका में छोटा-मोटा काम करने के लिए आया. कुछ सालों की मेहनत से उसने तत्कालीन(सन 1870  के आसपास ) विश्व का स्टील का सबसे बड़ा व्यापारिक साम्राज्य खड़ा…
Continue Reading

घाट का पत्थर

लोकोपदेशक प्रसंग नदी के किनारे एक घाट का पत्थर हर समय लहरों से टकराता था.  एक धोबी हर रोज उस घाट पर कपडे धोता था. वहां  से थोड़ी ही दूर एक…
Continue Reading

सच्चा साधु

लोकोपदेशक प्रसंग भगवान् बुद्ध ने अपने शिष्यों को दीक्षा देने के उपरांत उन्हें धर्मचक्र-प्रवर्तन के लिए अन्य नगरों और गावों में जाने की आज्ञा दी। बुद्ध ने सभी शिष्यों से…
Continue Reading

बुढ़िया का महादान

लोकोपदेशक प्रसंग एक बार महात्मा बुद्ध अपने शिष्यों के साथ बैठे हुए बुद्ध लोगों की भेंट स्वीकार कर रहे थे। उन्हें भूमि, खाद्य, वस्त्र, वाहन और सुवर्ण आभूषण उनके चरणों…
Continue Reading

परोपकार और मृदुभाव

लोकोपदेशक प्रसंग एक सेठ कुऍं में गिर पड़ा। वह निकलने के लिये चिल्लाने लगा तो आस पास के लोग इक्कठा होने लगे। एक किसान ने सुना तो पहुँचा और बोला-"…
Continue Reading